राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालय से लापता हुए 3 छात्र, समाज कल्याण मंत्री ने कहा होगी कार्यवाही

Abhishek Gupta

Publish: Sep, 17 2017 06:58:44 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालय से लापता हुए 3 छात्र, समाज कल्याण मंत्री ने कहा होगी कार्यवाही

समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालय से लापता हुए 3 छात्र , समाज कल्याण मंत्री ने कहा होगी कड़ी कार्यवाही.

बाराबंकी. समाज कल्याण विभाग प्रदेश के प्रत्येक जिले में आश्रम पद्धति विद्यालय संचालित करता है जिसमें वह गरीब बच्चे विद्यालय में रहकर ही शिक्षा ग्रहण करते हैं। इस विद्यालय में अमूमन उन गरीब परिवारों के बच्चे शामिल होते हैं जिनके माता-पिता निर्धन होने की वजह से अपने बच्चोँ की शिक्षा का भार वहन नहीं कर पाते हैं, लेकिन निर्धन छात्रों हेतु संचालित बाराबंकी का यह विद्यालय आज लापरवाही और निरंकुशता की भेंट चढ़ चुका है।

इसी लापरवाही के चलते इस विद्यालय में आश्रम अधीक्षक व अन्य कर्मचारियों की मौजदगी के बावजूद पिछले 20 दिनों के अन्तराल में इस विद्यालय के 3 छात्र अब तक लापता हो चुके हैं जिसमें से 1 छात्र की गुमशुदगी बाकायदा सतरिख थाने में दर्ज भी हैं। लेकिन छात्रों के लापता होने और उनकी बरामदगी के बारे में पूछे गए सवालों का सटीक और स्पष्ट जवाब न तो जिला प्रशासन के पास है और न ही समाज कल्याण मंत्री के पास।

समाज कल्याण विभाग द्वारा फाइलों में आश्रम पद्धति विद्यालयों में सुरक्षा व्यवस्था, उचित देखरेख और संसाधन मुहैया कराने के दावे ज़मीनी सतह पर खोखले ही नज़र आते हैं। घोर लापरवाही और निरंकुशता का ताज़ा मामला बाराबंकी के सतरिख थाना क्षेत्र अंतगर्त स्थित राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालय का है जहां आश्रम अधीक्षक की लापरवाही और निरंकुशता के चलते इस विद्यालय में रहकर अध्यन करने वाले 3 छात्र सितंबर माह में गायब हो चुके हैं।

पिछले 15 दिन से लगातार जिला व पुलिस प्रशासन के अधिकारियों के चक्कर लगाने के बाद इनमें से 1 छात्र अजय जो की सतरिख थाना क्षेत्र का निवासी है। उसकी गुमशुदगी दर्ज कर ली गई है जबकि 2 अन्य छात्रों का अभी तक कोई सुराग नहीं मिला है। इनमें से एक फतेहपुर कोतवाली के शेखपुर गाँव का निवासी कक्षा 9 का छात्र करन है जबकि दूसरा रामनगर क्षेत्र कुम्भरावा गांव का निवासी कक्षा 7 का छात्र योगेश है। 3 छात्रों के विद्यालय से गायब हो जाने की सूचना ने जिला प्रशासन की नींद उड़ा दी और आनन फानन में एसडीएम सदर सुशील प्रताप सिंह और समाज कल्याण अधिकारी शिल्पी सिंह तीरगांव स्थित विद्यालय पहुंची और अपनी जांच शुरू की। हैरत की बात तो यह थी कि इन तीनों गायब बच्चों के बारे में विद्यालय के अधीक्षक द्वारा समाज कल्याण अधिकारी और एसडीम को अभी तक कोई भी जानकारी नहीं दी गईं थी।

उत्तर प्रदेश सरकार के समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित आश्रम पद्धति विद्यालय से 3 छात्रों के गायब होने को जिलाधिकारी बाराबंकी अखिलेश तिवारी ने गंभीरता से लिया है। इस मामले की जांच उन्होंने एसडीएम सदर को सौंपी है और इस मामले में दोषी अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की बात की है। वहीं दूसरी तरफ एक कार्यक्रम के आयोजन में बाराबंकी आये प्रदेश के समाज कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री इस मामले पर पूरी तरह से अपने विभागीय अधिकारियों को बचाने की कोशिश करते नज़र आये और उन्होंने पंद्रह दिन पहले गायब हुए छात्र अजय की पीड़ित और दुखी नानी पर ही छात्र को गायब कर देने के षड्यंत्र में शामिल होने का आरोप लगाया  वजह कुछ भी हो लेकिन सरकारी विद्यालय से छात्रों के गायब होने की इस घटना से अन्य छात्रों के परिजन बेहद सशंकित हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned