बाराबंकी में फिर छात्राओं ने लहराया परचम

जिले ने पहले भी हाईस्कूल व इंटर की परीक्षाओं में अपना डंका बजवाया है। कई मेधावी छात्र-छात्राओं ने मेरिट में टॉप करके यूपी में अपने जिले का नाम रोशन किया है।

बाराबंकी. शिक्षा की बात हो और यूपी के बाराबंकी जिले का नाम ना लिया जाए यह हो नही सकता। जिले ने पहले भी हाईस्कूल व इंटर की परीक्षाओं में अपना डंका बजवाया है। कई मेधावी छात्र-छात्राओं ने मेरिट में टॉप करके यूपी में अपने जिले का नाम रोशन किया है। इस बार भी बाराबंकी जिले में छात्राओं ने हाईस्कूल बोर्ड की परीक्षाओं में अभूतपूर्व सफलता प्राप्त की है। 

आज जब हाईस्कूल बोर्ड के परिणाम सामने आए तो हर कोई दंग रह रह गया। क्योंकि जिले में टॉपर की सूची में किसी छात्र का नाम नहीं था, बल्कि प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान पर छात्राओं ने बाजी मारी थी। सफलता के इस पायदान पर नगर के लख पेड़ाबाग स्थित पायनियर मांटेसरी इंटर कॉलेज की छात्रा प्रगति सिंह प्रदेश में टॉप करने वाली छात्राओं में दूसरे नंबर पर थी। प्रगति सिंह 95.33 फीसदी अंक पाकर दूसरे स्थान पर पहुची थी। प्रगति सिंह का मूल निवास शहर से लगभग 15 किलोमीटर दूर सतरिख थाना क्षेत्र के नींदनपुर गांव में जहाँ तक जाने के लिए खुद के वाहन के अलावा कोई और साधन नहीं है यही वजह है कि प्रगति को शहर में रहकर अपनी पढ़ाई करनी पड़ रही है। प्रगति अपनी सफलता का पूरा श्रेय अपने शिक्षकों व अपने माता-पिता को देती हैं। प्रगति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपना आदर्श मानती है।


हाईस्कूल बोर्ड की परीक्षाओं में प्रदेश में दूसरे स्थान पर टॉप करने वाली अमीना खातून बाराबंकी के देवा कस्बे की निवासी है और देवा कस्बा में नरैनी स्थित प्रतिभा इंटर कॉलेज की छात्रा है। हाईस्कूल परीक्षा में 95.33 फीसदी अंक पाने वाली अमीना खातून के पिता कपड़े की दुकान चलाते हैं और उनकी माता एक गृहणी हैं। पढ़ाई पूरी करकर अमीना खातून डॉक्टर बनना चाहती है। अमीना अपने स्कूल के प्रधानाचार्य को अपना आदर्श मानती हैं। 

हाईस्कूल परीक्षा में प्रदेश में तीसरा स्थान प्राप्त करने वाली प्रियांशु वर्मा मूल रूप से बाराबंकी शहर की निवासी हैं। प्रियांशु वर्मा ने हाईस्कूल परीक्षा में 95.17 फीसदी अंक प्राप्त किये हैं। प्रियांशु इस सफलता में अपने माता पिता और शिक्षकों को सारा श्रेय देती हैं। प्रियांशु स्वामी विवेकानंद को अपना आदर्श मानती हैं, क्योकि वह अपने गुरुजनों का आदर करते थे। प्रियांशु पढ़ाई पूरी करके इंजीनियर बनना चाहती है।
Show More
shatrughan gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned