scriptbaran birds news baran migrated birds return to there area | आ अब लौट चले...प्रवासी पक्षी भर गए वापसी की उड़ान | Patrika News

आ अब लौट चले...प्रवासी पक्षी भर गए वापसी की उड़ान

शीतकाल में यहां देश के कई राज्यों के अलावा यूरोपियन व एशियन देशों के पक्षी आते हैं। प्रवासी पक्षियों का आगमन नवम्बर माह में शुरू होता है और यह मार्च माह तक यहां रहते हैं। लेकिन इस वर्ष फरवरी माह में ही अधिकांश प्रवासी पक्षी वापस लौट गए हैं।

बारां

Updated: February 26, 2022 08:51:06 pm

बारां से करीब 25 किमी दूर स्थित सोरसन वन क्षेत्र है। लोकप्रिय रूप से सोरसन घास के मैदानों के रूप में जाना जाता है। यह 41 वर्ग किमी का पक्षी अभयारण्य है, जो झाड़ीदार वनस्पतियों, कई जल निकायों और पक्षियों और जानवरों की एक विशाल विविधता का घर है। इस क्षेत्र का अमलसरा का तालाब देसी, विदेशी पक्षियों का पसंदीदा घरौंदा है। शीतकाल में यहां देश के कई राज्यों के अलावा यूरोपियन व एशियन देशों के पक्षी आते हैं। प्रवासी पक्षियों का आगमन नवम्बर माह में शुरू होता है और यह मार्च माह तक यहां रहते हैं। लेकिन इस वर्ष फरवरी माह में ही अधिकांश प्रवासी पक्षी वापस लौट गए हैं।
जिन क्षेत्रों से यह पक्षी यहां आते हैं, वे सर्दी में बर्फ के मैदान बन जाते हैं। प्रवासी पक्षी यहां प्रजनन की करते हैं, इनके लिए यहां अनुकूल हालात होते हैं। इस क्षेत्र में मुख्य रूप से ओरिओल्स, बटेर, तीतर, रॉबिन, बुनकर, ग्रेलेग, गीज, कॉमन पोचाड्र्स, टील्स और पिनटेल्स देखे जा सकते है। स्पूनबिल और पेंटेड स्टॉर्क (जांघिल), ग्रे लैग गूज, कॉम्ब डक लेसर, व्हिसलिंग डक, शॉर्ट टॉड स्नैक ईगल, शॉर्ट इयर्ड व स्पॉटेड आउल (उल्लू), रड्डी शेल्डक, सारस क्रेन, बार हैडेड गूज, कॉमन क्रेन (भारतीय सारस), पर्पल मूरहैन, कॉमन डक, स्वैलॉ बर्ड (आबाबील), फ्रूटबैट व कॉमन बैट (चमगादड़), ईगल पैलिकन (हवासील), व्हाइट स्टॉर्क, स्पूनबिल डक, मुर्गाबी, केस्ट्रल ईगल, शिकरा आदि पक्षी शामिल रहते हैं। यह योरप, साइबेरिया, मंगोलिया, तुर्कमेनिस्तान, अफगानिस्तान, ईरान, चाइना, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, रूस, आस्ट्रेलिया समेत अन्य कई देशों से आते हैं। वहीं, हिमालयन उल्लू के अलावा यहां आस्ट्रेलिया से भी उल्लू पहुंचते हैं। सोरसन वन क्षेत्र में काले हरिण और चिंकारे जैसे जानवर कुलांचे भरते देखे जा सकते हैं।
तालाब व तलाइयां हो गए सूने
अन्ता वन क्षेत्र के कार्यवाहक रेंजर सुनील पंवार ने बताया कि इस वर्ष सोरसन के मानपुरा तालाब में अधिक पक्षियों ने डेरा था। अमलसरा के तालाब व तेजाजी की तलाई में पक्षी आए थे, लेनकी संख्या गत वर्षों की तुलना में कम थी। अब यहां एशियाई देशों से आने वाले बार गूज हैडेड व व्हीसलिंग बड्र्स ही गिने-चुने बचे हैं। यह पक्षी भी वापसी की तैयारी कर रहे हैं।

आ अब लौट चले...प्रवासी पक्षी भर गए वापसी की उड़ान
आ अब लौट चले...प्रवासी पक्षी भर गए वापसी की उड़ान

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट से मंदिर-मस्जिद के सबूतों का नया अध्याय, एक्सक्लूसिव रिपोर्ट सिर्फ पत्रिका के पास, जानें क्या है इन सर्वे रिपोर्ट में...BOXER Died in Live Match: लाइव मैच में बॉक्सर ने गंवाई जान, देखें वायरल वीडियोBRICS Summit: ब्रिक्स देशों के शिखर सम्मेलन में शामिल हुए भारतीय विदेश मंत्री जयशंकर, उठाया आतंकवाद का मुद्दासीएम मान ने अमित शाह से मुलाकात के बाद कहा-पंजाब में तैनात होंगे 2,000 और सुरक्षाकर्मीIPL 2022 RCB vs GT live Updates: गुजरात ने बेंगलुरु को दिया जीत के लिए 169 रनों का लक्ष्यVirat Kohli की कप्तानी पर दिग्गज भारतीय क्रिकेटर ने उठाए सवाल, कहा-खिलाड़ियों का समर्थन नहीं कियादिल्ली हाई कोर्ट से AAP सरकार को झटका, डोर स्टेप राशन डिलीवरी योजना पर लगाई रोकसुप्रीम कोर्ट का फैसला: रोड रेज केस में Navjot Singh Sidhu को एक साल जेल की सजा, जानें कांग्रेस नेता ने क्या दी प्रतिक्रिया
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.