कुछ लोग स्वार्थ की रोटियां सेक रहे हैं

क्रांतिकारी राष्ट्रीय संत कमल मुनि कमलेश ने यहां ग्रामीणों को सद्मार्ग पर चलने एवं जीव हत्या नहीं करने के लिए प्रेरित किया। मुनि ने यहां ग्रामीणों से कहा कि गांधी और राम की दुहाई देने वाले कुछ लोग स्वार्थ की रोटियां सेक रहे हैं।

By: Hansraj

Published: 03 Mar 2019, 11:01 PM IST

जीव हत्या नहीं करने को किया प्रेरित
भंवरगढ़. कस्बे से गुजर रहे क्रांतिकारी राष्ट्रीय संत कमल मुनि कमलेश ने यहां ग्रामीणों को सद्मार्ग पर चलने एवं जीव हत्या नहीं करने के लिए प्रेरित किया। मुनि ने यहां ग्रामीणों से कहा कि गांधी और राम की दुहाई देने वाले कुछ लोग स्वार्थ की रोटियां सेक रहे हैं। हमारे देश में मुगलकाल के समय भी मांस का निर्यात नहीं होता था, लेकिन हमारा दुर्भाग्य है कि आजाद भारत में यह सब देखने को हमें मजबूर होना पड़ रहा है। मुनि कमलेश ने कहा कि सरकार को तत्काल मांस निर्यात पर अपनी नीति को स्पष्ट करना चाहिए। यह पशुओं का ही नहीं बल्कि इंसानों का कत्लेआम है। इससे कोई भी राजनीतिक दल चिंतित नहीं है। राष्ट्र संत ने कहा कि पर्यावरण के तहत वृक्षों की डाली तोडऩा मात्र तो अपराध होता है, फिर पशुओं के लिए छूट क्यों? यहां पहुंचने पर उनका ग्रामीणों ने जोरदार स्वागत किया।
रक्तदान से शहीदों का श्रद्वांजलि
अटरू शिविर में आगे आए ८१ लोग
अटरू. पुलवामा हमले में शहीद हुए जवानों को श्रदांजलि देने के लिए रविवार को यहां सार्वजनिक निर्माण विभाग के विश्राम गृह में समर्पण सेवा संस्था की ओर से रक्तदान शिविर लगाया गया।
शिविर में पूर्व विधायक रामपाल मेघवाल, रतनपुरा की सरपंच श्वेता महावर, सीमा मीणा, रीना यादव, रिमी शर्मा, प्रमोद शर्मा, कुलदीप त्यागी, नरेन्द्र मीणा, अतुल पारीक, विकास मीणा, आदित्य पाण्डेय, शेखर त्यागी, हिमांशु शर्मा, लालवीर मीणा, गुलाबचन्द कुशवाह, राकेश भानपुर, धनराज सुमन, पप्पु मीणा, पुरणमल, राजेन्द्र नागर, मोहमंद कमीनुद्वीन, जावेद खान सहित ८१ लोगों ने रक्तदान किया। शिविर में प्रात: से सांय तक बरलां के सरपंच कृष्णमोहन मीणा, अटरू सरपंच मनोज सुमन, अनिल मर्मिट, दिनेश झारखण्ड, मनीष महावर सहित कई युवा प्रोत्साहित करने में जुटे हुए थे।

Hansraj Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned