कहीं बीमार ना कर दे यह धूल मिटटी के गुबार

कहीं बीमार ना कर दे यह धूल मिटटी के गुबार

Hansraj Sharma | Publish: Mar, 17 2019 08:57:08 PM (IST) Baran, Baran, Rajasthan, India

छबड़ा सुपर क्रिटिकल थर्मल पावर प्लांट में मुख्य रोड सहित अन्य निर्माण कार्यों के चलते उड़ते धूल के गुबार से थर्मल अधिकारियों, श्रमिकों व आसपास के किसान परिवारों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है

थर्मल कर्मियों की बड़ी परेशानी
छबड़ा. छबड़ा सुपर क्रिटिकल थर्मल पावर प्लांट में मुख्य रोड सहित अन्य निर्माण कार्यों के चलते उड़ते धूल के गुबार से थर्मल अधिकारियों, श्रमिकों व आसपास के किसान परिवारों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। लोगों में धूल मिटटी जनित बीमारियों से ग्रस्त होने की आशंका बनी हुई है, लेकिन थर्मल व प्रशासनिक स्तर पर उदासीन रवैया अपनाया जा रहा है। एहतियात के तौर पानी का छीडक़ाव तक नहीं किया जा रहा है।
सूत्रों के अनुसार मोतीपुरा चौकी में सुपर थर्मल पावर प्लांट के मुख्य गेट से सुपर क्रिटिकल पावर प्लांट में मुख्य सीसी रोड व नाला-नाली निर्माण समेत प्लांट परिसर में विभिन्न निर्माण कार्य जारी है। सडक़ निर्माण के दौरान मापदंडों की अनदेखी की जाने से थर्मल में चारों ओर धूल के गुबार उड़ रहे है। मुख्य रोड पर कई जगह निर्माण सामग्री बिखरी हुई है।

कई दिनों से अधूरे पड़े काम
हाल यह है कि कई कार्य लम्बे समय से अधूरे पड़े है। क्रिटिकल प्लांट के मुख्य गेट व इससे आगे तक सीसी रोड निर्माणाधीन है, लेकिन यहां ठेकेदारों ने पीसीसी के बाद से काम अधूरा छोड़ दिया। इससे वाहनों के फर्राटों के साथ गिट्टी, पत्थर उछलकर राहगीर व वाहन चालकों को चोटिल कर रहे हैं। धूल के गुबार उडऩे से वाहन चालकों को काफी दूर तक साफ नजर नहीं आता। वहीं शाम को ड् यूटी से लौटने की जल्दी के चलते दुर्घअना होने का अंदेशा रहता है।
हो जाते है मुंह सफेद
श्वांस के साथ धूल शरीर के अंदर जा रही है। इससे लोग खांसी जुकाम की चपेट में आ रहे हैं। हालत यी है कि थर्मल में खुले में कार्य करने वाले मजदूरों व कर्मचारियों की हालत बदतर हो जाती है, शाम तक तो धूल की परत जमने से मुंह सफेद हो जाता है। बालों में भी धूल के कण समा जाते हैं।
फसल भी हो रही प्रभावित
धूल मिटटी के गुबार से आसपास के गांव के ग्रामीण व खेतीहर किसान भी परेशान है इनका कहना है कि दिन रात धूल के गुबार उडऩे से फसलें भी खराब होती हैं। खांसी, जुकाम व फेफड़ों से सम्बंधित बीमारी होने की आशंका है।
-संबंधित एजेंसियों को निर्माण काय्र स्थल पर धूल से बचाव के लिए पानी छिडक़ाव के निर्देश हैं, छिडक़ाव किया भी जाता है, यदि कोई लापरवाही हो रही है तो दिखवाएंगे।
-जीके राठी, मुख्य अभियंता, छबड़ा सुपर क्रिटिकल थर्मल पावर प्लांट मोतीपुरा चौकी

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned