बारां नगर परिषद में कांग्रेस को 8 मत अधिक मिले

इन दोनों ही निकायों में कांग्रेस व भाजपा ने जीत के लिए साम, दाम, दंड व भेद की नीति अपनाते हुए चुनाव लड़ा था। कांग्रेस ने बारां नगर परिषद के कुल 60 वार्डों में से 32 में जीत हासिल कर स्पष्ट बहुमत प्राप्त कर लिया था।

By: Ghanshyam

Published: 20 Dec 2020, 07:59 PM IST

बारां. जिले में बारां नगर परिषद व अन्ता नगरपालिका बोर्ड में कांग्रेस ने लगातार तीसरी बार जीत का परचम फहरा भाजपा को चारों खाने चित कर दिया। इन दोनों ही निकायों में कांग्रेस व भाजपा ने जीत के लिए साम, दाम, दंड व भेद की नीति अपनाते हुए चुनाव लड़ा था। कांग्रेस ने बारां नगर परिषद के कुल 60 वार्डों में से 32 में जीत हासिल कर स्पष्ट बहुमत प्राप्त कर लिया था। लेकिन अन्ता नगरपालिका के 35 वार्डों में से कांग्रेस व भाजपा को 16-16 वार्डों में जीत मिली थी। यहां 3 निर्दलीय चुनाव जीते थे और सत्ता की चाबी भी इनके पास ही थी। इसके बाद अन्ता के विधायक व राज्य के खान एवं गोपालन मंत्री प्रमोद जैन भाया की कुशल रणनीति व बारां-अटरू के विधायक पानाचंद मेघवाल के धरातलीय प्रयास भाजपा पर भारी पड़ गए। इन दोनों निकायों में लगातार तीसरी बार मिली हार से भाजपा नेतृत्व को भी कठघरे में ला दिया। कांग्रेस की तोडफ़ोड़ के मोहरें भी पार्टी के कुछ नेता बने हुए थे। जबकि कांग्रेस की कमान पूरी तरह मंत्री भाया व विधायक मेघवाल के हाथ रही। बारां बारां नगर परिषद में कांग्रेस ने 60 में 32 वार्डों में जीत दर्ज कर बहुमत पा लिया था। लेकिन सभापति के चुनाव में कांग्रेस की उम्मीदवार ज्योति पारस को 40 मत मिले। ज्योति को 8 अतिरिक्त मिलने से भाजपा ही नहीं राजनीति के जानकार लोग भी हैरत में रहे। लेकिन इससे न तो भाजपा के रणनीतिकारों को हैरत हुई और न ही कांग्रेस के दिग्गज चौंके।

Ghanshyam Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned