डेंगू के डंक ने उड़ाई नींद, बढ़ रहे रोगी, जिले में अब तक चिन्हित हुए 34 रोगी

डेंगू के डंक ने उड़ाई नींद, बढ़ रहे रोगी, जिले में अब तक चिन्हित हुए 34 रोगी

Shiv Bhan Singh | Publish: Aug, 07 2018 03:01:49 PM (IST) Baran, Rajasthan, India

‘www.patrika.com/rajasthan-news

बारां. जिले में बारिश का क्रम थमने के बाद जमे हुए पानी में बीमारी के मच्छर पनप रहे हैं। इससे जिले में अब हर सप्ताह मलेरिया व डेंगू रोगी चिन्हित होने लगे हैं। सम्बंधित नगरपरिषद व नगरपालिकाओं के स्तर पर साफ-सफाई करने में उदासीनता बरती जा रही है। जिले में इस वर्ष मलेरिया के अधिक रोगी नहीं आ रहे है, लेकिन डेंगू फिर पसरने लगा हेै।
इस वर्ष अब तक डेंगू के 34 रोगी चिन्हित हो चुके हैं। जबकि गत वर्ष अगस्त के प्रथम सप्ताह तक 12 डेंगू रोगी चिन्हित हुए थे। इन आंकड़ों के मुताबिक गत वर्ष (अगस्त के प्रथम सप्ताह तक) की अपेक्षा इस वर्ष तीन गुना लोग डेंगू की चपेट में आए है।ं इसी तरह जिले में गत वर्ष अगस्त के प्रथम सप्ताह तक 178 लोगों को मलेरिया हुआ था, लेकिन इस वर्ष इसी अवधि में रोगियों की संख्या घटकर आधी रह गई। चार अगस्त को समाप्त हुए सप्ताह तक मात्र 68 मलेरिया रोगी ही चिन्हित हुए हैं।
असर वहां, दवा यहां
विभागीय व्यवस्था के तहत मर्ज जिले के बाहर हो रहा है, लेकिन उसकी दवा जिले में रोगी के घर व आसपास के क्षेत्र में की जा रही है। मध्यप्रदेश के श्योपुर जिले में एक मजदूर के करीब सात वर्षीय पुत्र सूरज की गत दिनों तबीयत खराब होने पर उसे कोटा एमबीएस चिकित्सालय में भर्ती कराया। जांच में डेंगू की पुष्टि हुई तो बारां का भामाशाह कार्ड होने पर यहां गतिविधि कराई गई। इसी तरह छीपाबड़ौद क्षेत्र के राजपुरा गांव निवासी एक किशोरी पैरों में सूजन के चलते 15 दिन कोटा भर्ती रही। वहां से डिस्चार्ज होते समय जांच में डेंगू की पुष्टि हो गई। फिर उसके गांव में एंटीलार्वा गतिविधियां करानी पड़ी। विभाग की ओर से पॉजीटिव रोगी के घर के आसपास गतिविधि कराई जाती है।
पहुंच रहे संभावित रोगी
मौसमी बीमारियों के चलते चिकित्सालयों का आउटडोर बढ़ रहा है, लेकिन किसी एक क्षेत्र से अधिक डेंगू, मलेरिया रोगी नहीं आ रहे। शहर के अब तक चार डेंगू रोगी चिन्हित हुए हैं। इसमें से एक कुंजविहार कॉलोनी, एक गजनपुरा व दो अन्य इलाकों के है। जुलाई के अंतिम सप्ताह में चिन्हित हुए चार में से एक बारां, एक गायत्री नगर अटरू, एक स्टेशन रोड अन्ता व एक उदपुरिया सीसवाली निवासी है। अधिकांश वायरल बुखार के चलते जांच करा रहे हैं। यहां जिला चिकित्सालय की जांच केन्द्र एवं प्रयोगशाला में संभावित डेंगू रोगियों की आए दिन जांच की जा रही है।
& जिले में मलेरिया रोगियों की संख्या तो काफी कम है, लेकिन डेंगू को लेकर सभी के सहयोग से विशेष प्रयास करने की जरूरत है। स्कूल, कोचिंग में बच्चों को घर पर सूखा दिवस मनाने की जानकारी देना चाहिए। नगर निकायों की ओर से भी सहयोग करना होगा।
राजेन्द्र मीणा, उप मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (स्वास्थ्य)

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned