बेडिय़ों से आजादी, अब होगा इलाज, गरीबी के कारण नहीं मिला था उपचार...14 वर्ष से जंजीरों में जकड़ा था मानसिक रोगी

baranबारां. पिछले करीब 15 वर्षो से जंजीर में जकड़े युवक लोकेश सहरिया (22) को सोमवार को पुलिस सहयोग से जंजीरों से आजाद कर दिया गया।

By: Shivbhan Sharan Singh

Published: 13 Mar 2018, 06:10 PM IST

बारां. पिछले करीब 15 वर्षो से जंजीर में जकड़े युवक लोकेश सहरिया (22) को सोमवार को पुलिस सहयोग से जंजीरों से आजाद कर दिया गया। पुलिस व चिकित्सा विभाग की टीम ने सुबह किशनगंज के समीप स्थित उसके गांव कांकड़दा पहुंच कर उसे जंजीरों से मुक्त कराया। इसके बाद यहां जिला चिकित्सालय लाकर भर्ती कराया। परिजनों ने पेड़ के तने से लोहे की जंजीर बांधकर उसी जंजीर के दूसरे सिरे से उसके पैर में जंजीर डाली हुई थी।
अब मुंह से बोल भी नहीं फूटता
युवक लोकेश सहरिया बचपन से मानसिक रोग से पीडि़त है। मानसिक हालत ठीक नहीं होने के कारण वह अक्सर माता-पिता समेत परिवार जनों व ग्रामीणों पर हमला कर देता था। उसकी हरकतों से परेशान परिजनों ने उसे जंजीरों से बांधकर रखा हुआ था। रात के समय भी परिवार का एक सदस्य उसके आसपास रहता था। हालांकि परिजनों ने शुरू में इलाज कराया, लेकिन आर्थिंक तंगी के चलते उच्च स्तर पर इलाज नहीं करा सके। लोकेश के परिजनों के मुताबिक करीब दो वर्ष की उम्र तक तो वह बोलता था, लेकिन उसके बाद से उसने बोलना बंद कर दिया था तब से स्थिति बिगड़ती चली गई।
दूसरे प्रयास में मिली सफलता
हाल ही में यह मामला सामने आया तो प्रशासन की ओर से गंभीरता से लिया गया। इसके तहत इससे पहले रविवार को भी चिकित्सा टीम गांव पहुंची थी। टीम ने उसे मुक्त कराने के लिए बेडियां खोलने का प्रयास किया, लेकिन इससे वह नाराज हो गया तथा उसने हमला कर दिया। किशनगंज थाने पर तैनात सब इंस्पेक्टर आशारानी बारहठ के नेतृत्व में सोमवार को टीम फिर पहुंची और टीम ने उसे सकुशल आजाद कराया।
छबड़ा. न्यायालय द्वारा यहां की जेल में बंदी को टूथपेस्ट की ट्यूब में अफीम देने का प्रयास के आरोपित को रविवार को जेल भेज दिया। सीआई सुगन सिंह के अनुसार डोडा चूरा तस्करी के मामले में यहां की जेल में बंद यादविन्दर सिंह निवासी हमीरगंज, मनसा पंजाब को उसके साथी गुरुप्रीत सिंह निवासी हमीरगंज ने इससे मिलने के बहाने टूथ पेस्ट में 3 ग्राम अफीम देने का प्रयास किया था। जिसे पुलिस ने गिरफ्तार किया था। आरोपित को रविवार को न्यायालय में पेश करने पर जेल भेज दिया।

Shivbhan Sharan Singh
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned