बारां में 5.62 लाख का बैंकों में नहीं आधार, काटने पड़ रहे चक्कर

सरकार की ओर से विभिन्न स्तर पर होने वाली कालाबाजारी पर प्रभावी रोक लगाने के लिए बैंक खातों को आधार कार्ड से जोडऩे पर जोर दिया जा रहा है

By: Shivbhan Sharan Singh

Published: 04 Jan 2018, 03:55 PM IST

बारां. सरकार की ओर से विभिन्न स्तर पर होने वाली कालाबाजारी पर प्रभावी रोक लगाने के लिए बैंक खातों को आधार कार्ड से जोडऩे पर जोर दिया जा रहा है, लेकिन आधार कार्ड का डाटा मिलान नहीं हो रहा है। इससे जिले में हजारों उपभोक्ताओं को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। कई उपभोक्ता आधार को लेकर यहां-वहां चक्कर लगा रहे हंै, लेकिन नियमित रूप से बैंक में लेनदेन करने वाले अधिकांश उपभोक्ताओं ने प्रयास कर उनके खातों को लिंक करा लिया है। वर्तमान में जिले में करीब 13 लाख बैंक खाते हंै। साढ़े सात लाख नियमित खातेदारों में से करीब 85 प्रतिशत खाते आधार से लिंक हुए हैं। इस तरह जिले में करीब ५ लाख 62 हजार बैंक खाते अब तक आधार से लिंक नहीं हुए।
Read more : .बारां में लड़कियों को ज्यादा छेड़ते हैं लड़के...लगातार लडकियों को छेडऩे के मामले बढ़ रहे हैं

अब बैंकों में भी बनेंगे आधार
आधार को बैंक खातों से लिंक कराने के लिए अब विभिन्न बैंक शाखाओं में भी आधार कार्ड बनाने, आधार कार्ड में सांशोधन कर उसे बैंक खातों से लिंक करने का कार्य किया जाएगा। इसके लिए जिले में करीब 15 बैंक शाखाओं का चयन किया गया। सबसे अधिक बारां शहर में दस बैंक शाखाओं में आधार मशीने लगाई जाएंगी। शहर में इलाहाबाद बैंक शाखा में यह कार्य शुरू हो चुका है।
Read more : मशीनों के लिए नया साल फरिश्ता बनकर आया,एक साल से गत्ते के कार्टून में पड़ी हैं लाखों की डायलिसिस मशीनें

यह होगा लाभ
बैंक खातों को आधार से लिंक कराने से लेनदेन व्यवस्था में पूरी तरह पारदर्शिता आएगी। सम्बंधित खाता धारक को ही उसका पैसा प्राप्त होगा। गैस सिलेंडर पर मिलने वाली सब्सिडी पूर्व में गैस सिलेंडर की दर कम रखकर दी जा रही थी। इससे पांच-दस सिलेंडर रखने वाले तथा कालाबाजारी करने वाले लोगों को उसका लाभ मिल रहा था तथा सरकार को चपत लग रही थी। अब सरकार जो सब्सीडी दे रही है, वह सीधे खाते में जमा हो रही है जो सम्बंधित उपभोक्ता को ही मिलेगी।
& जिले में कुल करीब 13 लाख बैक खातेदार है, लेकिन नियमित रूप से लेनदेन करने वाले करीब 7.50 लाख खातेदार हैं। इनमें से करीब 85 प्रतिशत खाते आधार से लिंक हो गए है। फिलहाल नियमित खातों को जोडऩे पर जोर दिया जा रहा है। अब 15 बैंक शाखाओं में भी आधार कार्ड बनाने व संशोधन कार्य किया जाएगा। इससे राहत मिलेगी।
बनवारीलाल मीणा, अग्रणी जिला प्रबंधक

Shivbhan Sharan Singh
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned