scriptबेटे को डॉक्टर बनाने का सपना लिए कोटा जा रहे परिवार की कार पलटी, पिता और ताऊ की मौत के बाद घर में छाया मातम | National Highway 27 Accident Of Family Going Kota For NEET Coaching, Mourning In House After Father And Uncle Died | Patrika News
बारां

बेटे को डॉक्टर बनाने का सपना लिए कोटा जा रहे परिवार की कार पलटी, पिता और ताऊ की मौत के बाद घर में छाया मातम

Road Accident: दोपहर करीब साढ़े 12 बजे बारां शहर से 18 किमी दूर बटावदा के आगे जोड़ळा हनुमानजी मंदिर के समीप कार बेकाबू होकर डिवायडर से टकरा गई तथा तीन-चार पलटी खाते हुए दूसरी लेन पर जाकर उलट गई।

बारांMay 28, 2024 / 11:07 am

Akshita Deora

नेशनल हाइवे 27 पर बटावदा गांव के समीप सोमवार दोपहर अनियंत्रित होकर कार डिवायडर से टकराकर पलट गई। इससे कार सवार दो लोगों की मृत्यु हो गई तथा दो घायल हो गए। घायलों को निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। मृतकों के शव पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिए। कार सवार लोग एक ही परिवार के थे। वे गुना के फतेहगढ़ थाना क्षेत्र के कलोरा गांव निवासी हैं। कार मालिक केसरी लाल धाकड़ कार चला रहा था। वह उसके बेटे अंकित को कोटा में नीट की तैयारी के लिए छोड़ने जा रहा था। हादसा बाइक सवार को बचाने के प्रयास में होने की आशंका जताई जा रही है। पुलिस जांच कर रही है।

अधूरा रह गया सपना

पुलिस ने बताया कि गुना जिले के कलोरा गांव निवासी राजकुमार धाकड़ उसके पिता केसरी लाल, ताऊ जगदीश, जीजा खैरूलाल, भाई अंकित व जीजा का पुत्र शेलेन्द्र एवं ताऊ जगदीश का पुत्र धर्मेन्द्र सभी सातों लोग कार में सवार होकर कोटा जा रहे थे। इनमें से दो छात्र तो पहले से कोटा में नीट की तैयारी कर रहे थे। इस वर्ष केसरीलाल उसके छोटे बेटे अंकित को भी नीट की तैयारी के लिए छोड़ने जा रहा था। वह बेटे अंकित को डॉ. बनाना चाहता था, लेकिन उसका सपना अधूरा ही रह गया और बेटे को कोचिंग में दाखिला कराने से पहले ही खुद चल बसा।
यह भी पढ़ें

विदेशों में राजस्थान के इस जिले के CA की डिमांड ज्यादा, वर्क फ्रॉम होम से कमा रहे 8-10 लाख रुपए साला

ना

दूसरी लेन पर पहुंची

दोपहर करीब साढ़े 12 बजे बारां शहर से 18 किमी दूर बटावदा के आगे जोड़ळा हनुमानजी मंदिर के समीप कार बेकाबू होकर डिवायडर से टकरा गई तथा तीन-चार पलटी खाते हुए दूसरी लेन पर जाकर उलट गई। घटना की सूचना पर सदर थाना प्रभारी छुट्टन लाल व अन्ता थाने से एएसआई घनश्याम मीणा व एएसआई कैलाश यादव मौके पर व बाद में अस्पताल पहुंचे। घायलों को कार से निकलवाकर दो गंभीर घायलों को पहले निजी अस्पताल तथा वहां से जिला अस्पताल लाए।
जांच के बाद चिकित्सकों ने कार चालक व मालिक केसरी लाल धाकड़ (45) व चचेरे भाई जगदीश धाकड़ (55) को मृत घोषित कर दिया। दो घायल छात्र अंकित व शैलेन्द्र को कोटा रोड पर शहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया। राजकुमार, धर्मेन्द्र व खैरूलाल के मामूली चोट लगने से भर्ती नहीं कराया गया। कार में तीनों छात्रों के रहने का बिस्तर, आटा, बर्तन व गैस सिलेंडर आदि घरेलू सामान भी था। जगदीश को लकवा की शिकायत थी। उसका पहले से कोटा में इलाज चल रहा था। इससे वह चिकित्सक को दिखाकर दवा लेने के लिए उनके साथ जा रहा था। घटना के बाद पुलिस ने क्रेन से कार को हटाया तथा सुरक्षा के तहत अन्ता थाने पर पहुंचाया।

Hindi News/ Baran / बेटे को डॉक्टर बनाने का सपना लिए कोटा जा रहे परिवार की कार पलटी, पिता और ताऊ की मौत के बाद घर में छाया मातम

ट्रेंडिंग वीडियो