कोरोना का डर भगाने की नई व्यवस्था, अब मौके पर लेंगे सेम्पल, चार टीमों का गठन

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से अब कोरोना वायरस के संदिग्धों की जांच के लिए शहर में नई व्यवस्था लागू की जा रही है। इस व्यवस्था के तहत संभावित संदिग्ध व्यक्ति की जांच करने की नौबत आने पर चिकित्सा टीम संदिग्ध व्यक्ति के घर पर पहुंचेगी तथा मौके पर ही सेम्पल एकत्र करेगी।

By: Mahesh

Published: 21 May 2020, 09:07 PM IST

बारां. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से अब कोरोना वायरस के संदिग्धों की जांच के लिए शहर में नई व्यवस्था लागू की जा रही है। इस व्यवस्था के तहत संभावित संदिग्ध व्यक्ति की जांच करने की नौबत आने पर चिकित्सा टीम संदिग्ध व्यक्ति के घर पर पहुंचेगी तथा मौके पर ही सेम्पल एकत्र करेगी। इस व्यवस्था से पॉजिटिव मरीज के परिजनों व उसके सम्पर्क में आने वाले सैलून कारीगर, ऑटो चालक व दूध, सब्जी वाले आदि को घरों से उठाकर अस्पताल लाने की जरूरत नहीं रहेगी। इस नई व्यवस्था को प्रभावी ढंग से लागू करने के लिए जिला मुख्यालय पर चार टीमों का गठन किया जाएगा। तीन टीमें मोबाइल रहेगी तथा एक टीम जिला चिकित्सालय में रहेगी। फिलहाल यह व्यवस्था जिला मुख्यालय पर ही लागू की जा रही है। इस व्यवस्था के लिए शुक्रवार से ही काम शुरू कर दिया जाएगा।

ना कोई हड़कम्प मचेगा ना होगी परेशानी
अब तक की व्यवस्था के तहत किसी क्षेत्र में पॉजिटिव मिलने की सूचना के साथ ही मरीज के सम्पर्क में आने वाले उसके परिजन व आसपास के लोगों के बारे में जानकारी लेकर उन्हें जिला चिकित्सालय ले जाकर आईसोलेशन वार्ड में भर्ती कर दिया जाता था। आइसोलेशन वार्ड में ही सभी सम्पर्क में आने वाले लोगों के सेम्पल लिए जाते थे। कई बार सम्पर्क में आने वाले लोग आनाकानी करते हुए टालमटोल रवैया अपनाते थे। इससे एहतियात के साथ दबाव बनाते हुए उन्हें अस्पताल लाना पड़ता था। वहीं अचानक टीम सम्पर्क में आने वाले लोगों के घर पहुंची थी तो क्षेत्र में हड़कम्प मच जाता था। दो दिन पहले गुरुजी के चौक निवासी युवक के सम्पर्क में आने वाले शास्त्री मार्केट में दो सैलून कारीगरों को सेम्पल के लिए टीम लेने पहुंची तो इन्दिरा मार्केट व शास्त्री मार्केट में हडकम्प सा मच गया था।

एम्बुलेंस से जाएंगे सेम्पल ले आएंगे
अब चिकित्सा टीम सूचना के आधार पर एम्बुलैंस से मौके पर जाएगी। टीम में शामिल चिकित्सक व लैब टेक्नीशियन पीपीई किट भी अस्पताल से ही पहनकर मौके पर पहुंचेंगे। मौके पर ही कुछ देर की प्रक्रिया पूरी कर संभावित संदिग्ध मरीज के गले से स्वैब का नमूना ले लेगी। बाद में सेम्पल को निर्धारित प्रक्रिया के तहत जांच के लिए भेज दिया जाएगा। इस दौरान अन्य लोगों को भी कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव व एहतियात के बारे में समझाइश की जाएगी। लोगों को कोरोना से बिना डरे सुरक्षित उपाए अपनाते हुए उससे बचने के लिए संबल दिया जाएगा।

संयुक्त निदेशक ने दिए निर्देश
यहां गुरुवार को कोटा से पहुंचे चिकित्सा एवं स्वस्थ्य विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. आरके लवानिया की अध्यक्षता में स्वास्थ्य भवन में बैठक आयोजित की गई। बैठक में विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रतिनिधि डॉ. राजेश गुप्ता, सीएमएचओ डॉ. सम्पतराज नागर, डिप्टी सीएमएचओ (स्वास्थ्य) डॉ. राजेन्द्र कुमार मीणा, पीएमओ डॉ. अख्तर अली की मौजूदगी में शहर समेत जिले में कोरोना वायरस पर नियंत्रण को लिए किए जा रही गतिविधियों की समीक्षा कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए। बैठक में मौके पर जाकर सेम्पल लेने के लिए टीमों का गठन करने का भी निर्णय करते हुए संयुक्त निदेशक ने दिशा-निर्देश दिए।

-पॉजिटिव मरीज के सम्पर्क में आने वाले लोगों के मौके पर सेम्पल लेने की नई व्यवस्था की जा रही है। इस सम्बंध में गुरुवार को संयुक्त निदेशक की अध्यक्षता में हुई बैठक में निर्णय कर दिशा-निर्देश दिए गए है।
-डॉ. राजेन्द्र कुमार मीणा, डिप्टी सीएमएचओ (स्वास्थ्य)

Corona virus COVID-19

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned