मुनाफाखोरी पर लगाम की कवायद, महामारी की आड़ में बढ़ाए दाम

बारां. शहर में लॉक डाउन के तहत खुल रही किरानों की दुकानों पर अब खाद्य सामग्री की कमी आने लगी हैं। लॉक डाउन से किराने की दुकानों को मुक्त रखे जाने से लोगों को राहत तो मिल रही है, लेकिन कई दुकानदार मनमाने दाम वसूलने लगे हैं। कई खाद्य पदार्थों के दामों में चार से पांच रुपए किलो तक की वृद्धि हो गई।

बारां. शहर में लॉक डाउन के तहत खुल रही किरानों की दुकानों पर अब खाद्य सामग्री की कमी आने लगी हैं। लॉक डाउन से किराने की दुकानों को मुक्त रखे जाने से लोगों को राहत तो मिल रही है, लेकिन कई दुकानदार मनमाने दाम वसूलने लगे हैं। कई खाद्य पदार्थों के दामों में चार से पांच रुपए किलो तक की वृद्धि हो गई।
शहर में आमतौर पर ९० रुपए किलो बिकने वाला सोयाबीन का तेल खुदरा बाजार में अब १०० रुपए तक पहुंच गया। जबकि शक्कर के भाव भी ३८ से बढ़कर ४२ रुपए प्रतिकिलो हो गए। आटे के दामों में खासी वृद्धि हुई है। खुदरा विक्रेताओं का कहना है कि स्टॉकिस्ट के गोदामों से दुकानों तक माल का परिवहन करने में परेशानी आ रही है। लॉक डाउन के चलते बाहर से खाद्य सामग्री भी अब शहर में कम मात्रा में आ रही है। ऐसे में खाद्य पदार्थों के दाम भी बढ़े हैं। जबकि थोक विक्रेताओं का कहना है कि वे पुराने भाव में ही खुदरा विक्रेताओं को खाद्य सामग्री उपलब्ध करा रहे हैं। कुछ लोकल निर्माताओं ने खाद्य सामग्री के दाम जरूर बढ़ाए है, लेकिन वे भी लॉक डाउन से सामग्री का उत्पादन करने में असमर्थ होते जा रहे हैं।

महासंघ के पदाधिकारियों की अपील
व्यापार महासंघ के अध्यक्ष ललितमोहन खंडेलवाल ने बताया कि शहर सहित जिले के कई व्यापारिक क्षेत्रों में आम उपभोक्ता वस्तु की पर्याप्त उपलब्धता के बावजूद अधिक दाम वसूले जाने की शिकायतें लगातार प्रशासन तक पहुंच रही हैं। खंडेलवालए संरक्षक देवकीनंदन बंसल, कमलेश विजय, पवन ड्रोलिया, सरोज कुमार जैन, माजिद सलीम, वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरेन्द्र बत्रा, महेन्द्र कुमार गोयल, महामंत्री योगेश कुमराए प्रदीप जैनए कोषाध्यक्ष जिनेन्द्र कुमार जैन आदि ने व्यापारियों से आग्रह किया है कि आपदा के समय में व्यापारियों को भी सहयोग करते हुए आम उपभोक्ता तक वाजिद दाम पर खाद्यान्न उपलब्ध करवाना चाहिए।

टीम गठित, होगी गिरफ्तारी
जिला कलक्टर इन्द्र सिंह राव ने कहा कि कोरोना वायरस आपदा के तहत जिले में पूर्णत: लॉकडाउन सुनिश्चित करते हुए कालाबाजारी करने वालों एवं आमजन से एमआरपी से अधिक राशि वसूलनें वालों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जाएगी। राव बुधवार को जिले में लॉकडाउन की स्थिति की समीक्षा करते हुए अधिकारियों को निर्देशित कर रहे थे। उन्होंने ऐसी शिकायतों के सत्यापन के लिए तीन सदस्यीय टीम का गठन किया है, जो खाद्य व आवश्यक सामग्री की दुकानों पर का आकस्मिक निरीक्षण कर अधिक दर वसूलने पर गिरफ्तारी व नियमानुुसार कार्यवाही करेगी। उन्होंने कहा कि जिले में 21 दिन की लॉक डाउन अवधि के दौरान किराना, जनरल प्रोविजनल स्टोर, डेयरी, फल-सब्जी सहित आवष्यक वस्तुओं की दुकानों पूर्व की भांति खुलेंगी और रात्रि 8 बजे बन्द की जाएगी। मेडिकल स्टोर 24 घंटे खुले रहेंगे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned