scriptशुभ संयोग में आएगा श्रावण, शिव की होगी आराधना | saawan month starts on monday | Patrika News
बारां

शुभ संयोग में आएगा श्रावण, शिव की होगी आराधना

हिन्दू धर्म में वैसे तो सभी महीनों का विशेष महत्व है, लेकिन सावन का महीना बेहद खास माना जाता है। श्रावण मास भगवान शिव को समर्पित होता है। मान्यता है सावन के महीने में की जो भी पूजा पाठ की जाती है उसका विशेष फल प्राप्त होता है। इस बार सावन पर काफी अद्भुत संयोग बन रहे हैं। सावन इस साल विशेष इसलिए भी है, क्योंकि सावन के महीने की शुरुआत सोमवार से ही हो रही है। भगवान भोलेनाथ की आराधना के पवित्र श्रावण मास की शुरुआत इस बार कृष्ण पक्ष की एकम 22 जुलाई से होगी। इस दिन सोमवार है।

बारांJul 08, 2024 / 11:04 am

mukesh gour

हिन्दू धर्म में वैसे तो सभी महीनों का विशेष महत्व है, लेकिन सावन का महीना बेहद खास माना जाता है। श्रावण मास भगवान शिव को समर्पित होता है। मान्यता है सावन के महीने में की जो भी पूजा पाठ की जाती है उसका विशेष फल प्राप्त होता है। इस बार सावन पर काफी अद्भुत संयोग बन रहे हैं। सावन इस साल विशेष इसलिए भी है, क्योंकि सावन के महीने की शुरुआत सोमवार से ही हो रही है। भगवान भोलेनाथ की आराधना के पवित्र श्रावण मास की शुरुआत इस बार कृष्ण पक्ष की एकम 22 जुलाई से होगी। इस दिन सोमवार है।

हिन्दू धर्म में वैसे तो सभी महीनों का विशेष महत्व है, लेकिन सावन का महीना बेहद खास माना जाता है। श्रावण मास भगवान शिव को समर्पित होता है। मान्यता है सावन के महीने में की जो भी पूजा पाठ की जाती है उसका विशेष फल प्राप्त होता है। इस बार सावन पर काफी अद्भुत संयोग बन रहे हैं। सावन इस साल विशेष इसलिए भी है, क्योंकि सावन के महीने की शुरुआत सोमवार से ही हो रही है। भगवान भोलेनाथ की आराधना के पवित्र श्रावण मास की शुरुआत इस बार कृष्ण पक्ष की एकम 22 जुलाई से होगी। इस दिन सोमवार है।

सावन के महीने की शुरुआत सोमवार से ही हो रही है

छबड़ा. हिन्दू धर्म में वैसे तो सभी महीनों का विशेष महत्व है, लेकिन सावन का महीना बेहद खास माना जाता है। श्रावण मास भगवान शिव को समर्पित होता है।
पूजन का विशेष फल

मान्यता है सावन के महीने में की जो भी पूजा पाठ की जाती है उसका विशेष फल प्राप्त होता है। इस बार सावन पर काफी अद्भुत संयोग बन रहे हैं। सावन इस साल विशेष इसलिए भी है, क्योंकि सावन के महीने की शुरुआत सोमवार से ही हो रही है। भगवान भोलेनाथ की आराधना के पवित्र श्रावण मास की शुरुआत इस बार कृष्ण पक्ष की एकम 22 जुलाई से होगी। इस दिन सोमवार है।
19 अगस्त को संपन्न

श्रावण का समापन श्रावण शुक्ल पक्ष पूर्णिमा 19 अगस्त को होगा, इस दिन भी सोमवार रहेगा। श्रावण मास 29 दिन का रहेगा, जिसमें कृष्ण पक्ष 14 दिन और शुक्ल पक्ष के 15 दिन होंगे। पंडितों ने बताया कि श्रावण मास में 5 सोमवार का आना और पहले और अंतिम दिन सोमवार होना शुभ संकेत हैं। यही नहीं श्रावण कृष्ण पक्ष का प्रारंभ सोमवार से और श्रावण शुक्ल पक्ष का प्रारंभ भी सोमवार से ही होगा। आखिरी सोमवार को पूर्णिमा तिथि के साथ रक्षाबंधन पर्व का संयोग भी रहेगा। श्रावण माह में पांच सोमवार होने से आमजन के लिए धन-धान्य सुख-समृद्धि कारक हैं।
अमृत सिद्धि, रवि योग

ज्योतिष में विषय संया का काफी महत्व है। जैसे पांच सोमवार का होना या 20 दिनों का माह होना और इसके साथ ही 9 योग का होना अति शुभ है। श्रावण मास शिव का महीना है। ऐसे में इस माह पांच सोमवार होना संयोग से कम नहीं है। सामान्य तौर पर हर माह सोमवार चार ही होते हैं। दूसरी तरफ इस माह राजयोग, कुमार योग, दुग्ध योग, अमृत सिद्धि योग, व्रज मूसल योग, स्थिर योग, रवि योग, राजयोग और सिद्धि योग आदि योग भी रहेंगे। श्रावण माह का पहला सोमवार 22 जुलाई को, दूसरा सोमवार 20 जुलाई, तीसरा सोमवार 5 अगस्त, चौथा सोमवार 12 अगस्त एवं पांचवां सोमवार 10 अगस्त को रहेगा।

Hindi News/ Baran / शुभ संयोग में आएगा श्रावण, शिव की होगी आराधना

ट्रेंडिंग वीडियो