शिक्षा के प्रसार पर दिया ध्यान तो बनेगी 'उजियारी पंचायत

‘www.patrika.com/rajasthan-news‘

By: Shivbhan Sharan Singh

Published: 20 Jul 2018, 06:57 PM IST

सौ फीसदी नामांकन वाली पंचायतों का बढ़ेगा मान
पीईईओ का राष्ट्रीय पर्वों पर किया जाएगा सम्मान
बारां. बच्चों का भविष्य बेहतीन बने। वह पढ़ लिखकर अच्छी नौकरी कर सके। इसे लेकर जिले की सभी 221 ग्राम पंचायतों के बच्चों पर जिला प्रशासन व शिक्षा विभाग की विशेष नजर रहेगी, लक्ष्य शत-प्रतिशत नामांकन तो होगा ही। इस लक्ष्य को हासिल करने वाली ग्राम पंचायत को 'उजियारी पंचायतÓ घोषित किया जाएगा। इसके लिए उसके पदेन पंचायत प्रारंभिक शिक्षा अधिकारी (पीईईओ) को सम्मानित भी किया जाएगा। शिक्षा विभाग के अधिकारियों के अनुसार इन दिनों प्रवेशोत्सव के तहत गांवों में रैलियां निकालकर बच्चों को सरकारी स्कूलों से जोडऩे का प्रयास किया जा रहा है। सरकारी स्कूलों में छात्र-छात्राओं को मिलने वाली सुविधाएं व लाभ की जानकारी दी जा रही है। द्वितीय चरण का प्रवेशोत्सव 31 जुलाई तक चलेगा। जिले की 221 पंचायतों के पीईर्ईओ ने अनामांकित बच्चों का चिन्हीकरण कर लिया है। अब अनामांकित छात्र-छात्राओं को स्कूल से जोड़ा जा रहा है।
पीईईओ करेंगे आवेदन
जिन पंचायतों में 18 साल तक के सभी छात्र-छात्राओं का स्कूलों में दाखिला हो गया है। वहां के पीईईओ उजियारी पंचायत के लिए आवेदन 5 अगस्त तक ब्लॉक शिक्षा अधिकारी को करेंगे। बीईओ उन्हें क्षेत्र के उपखंड अधिकारी को भेजेगा। उपखंड अधिकारी आवेदन का त्रिस्तरीय दल से भौतिक सत्यापन कराएंगे। इस दल में ब्लॉक शिक्षा अधिकारी, विकास अधिकारी व पीईईओ शामिल होंगे।
यदि भौतिक सत्यापन में रिपोर्ट सही पाई गई तो जिला निष्पादन समिति की बैठक में अनुमोदन किया जाएगा। इसके बाद जिला कलक्टर उक्त पंचायत को उजियारी पंचायत घोषित कर देंगे।
फिर पीईईओ को राष्ट्रीय पर्व 26 जनवरी, 15 अगस्त व 5 सितंबर शिक्षक दिवस पर सम्मानित किया जाएगा।
& जिस पंचायत में 18 साल तक के सभी बच्चों का नामांकन स्कूलों में हो जाएगा। वहां की पंचायत को उजियारी पंचायत घोषित किया जाएगा। उक्त पंचायत के पीईईओ को सम्मानित भी किया जाएगा।
भागीरथ मीणा, अतिरिक्त जिला परियोजना समन्वयक, रमसा
कक्षा 3 ये 5 साल के छात्र-छात्राओं को आंगनबाड़ी व 6 से 18 साल तक के छात्र-छात्राओं को सरकारी स्कूल से जोड़ा जा रहा है। यदि कोई छात्र-छात्रा पलायन कर गए हैं। उनकी भी लिस्ट तैयार की जाएगी। साथ ही यह भी पता किया जाएगा कि वर्तमान में वह छात्र-छात्रा कहां अध्ययनरत हैं। इनकी सूची बनाकर शिक्षा विभाग के अधिकारियों को भेजी जाएगी। इसको लेकर हाल ही में समग्र शिक्षा अभियान के तहत राज्य अतिरिक्त परियोजना निदेशक सुरेश चंद्र की अध्यक्षता में प्रदेश स्तरीय बैठक हुई थी।

Show More
Shivbhan Sharan Singh
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned