अटरू में बंद पड़े दो नलकूप किए शुरू

अटरू में बंद पड़े दो नलकूप किए शुरू

DILIP VANVANI | Publish: Mar, 17 2019 10:56:24 AM (IST) Baran, Baran, Rajasthan, India

कस्बे की पेयजल वितरण व्यवस्था को सुचारू रखने के लिए जलदाय विभाग ने अब प्रयास शुरू किए है। शनिवार को जलापूर्ति को संबल देने के लिए काफी समय से बंद पड़े दो नलकूपों को ठीक करा शुरू कर दिया गया है। पेयजल संकट को लेकर पत्रिका ने 10 मार्च को 'तीन दिन में एक बार मिल सकता है पानीÓ शीर्षक से प्रमुखता से खबर प्रकाशित की थी। इससे अधिकारियों की नींद टूटी है।

अटरू. कस्बे की पेयजल वितरण व्यवस्था को सुचारू रखने के लिए जलदाय विभाग ने अब प्रयास शुरू किए है। शनिवार को जलापूर्ति को संबल देने के लिए काफी समय से बंद पड़े दो नलकूपों को ठीक करा शुरू कर दिया गया है। पेयजल संकट को लेकर पत्रिका ने 10 मार्च को 'तीन दिन में एक बार मिल सकता है पानीÓ शीर्षक से प्रमुखता से खबर प्रकाशित की थी। इससे अधिकारियों की नींद टूटी है।
कस्बे में इनदिनों जलदाय विभाग की ओर से एकांतरे जलाआपूर्ति की जा रही है, लेकिन विभाग के जलापूर्ति करने के एक दर्जन में से मात्र एक नलकूप चालू होने से इसमें भी परेशानी आ रही है। इसके बाद भी विभाग के अधिकारी इन बंद पडे नलकूपों को ठीक नहीं कर अब दो दिन छोड़कर तीसरे दिन जलापूर्ति करने की जुगाड़ में लगे हुए थे। पत्रिका में खबर प्रकाशित होने के बाद जलदाय विभाग व ठेकेदार ने मिलकर शनिवार को कटारमल चौराहा व आरामशीन के पास का नलकूप ठीक करा दिया। जिससे इनमें पानी आने लगा है।सहायक अभियन्ता जमनालाल यादव व जलापूर्ति करने वाले ठेकेदार के प्रतिनिधि सोनू गर्जर ने बताया कि अब रविवार को अन्य नलकूप ठीक कराने का प्रयास करेंगे।
इधर, नहीं हुई मरमत
जलदाय विभाग द्वारा पाइप लाइन डालने के करीब दो वर्ष बाद भी खोदी गई सड़कों की मरम्मत नहीं करा पाया है। जिससे लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। कस्बे में पेयजल संकट को देखते हुए करीब दो वर्ष पूर्व सरकार ने ८९.६९ करोड़ रुपए स्वीकृत किए थे। इस राशि से शेरगढ़ से अटरू में पेयजल पहुंचाने के लिए लाइन बिछाई गई थी। जिसमें जलदाय विभाग द्वारा अटरू, खेडलीगंज, रतनपुरा पंचायत क्षेत्र के अधिकांश सीसी, इन्टरलॉकिंग, खरचें आदि खोद दिए थे। विभाग के संवेदक ने लाइन बिछाने के बाद भी अधिकांश सड़कों की मरम्मत नहीं कराई। कुछ मोहल्लों में तो खरचों के पत्थर वहीं पड़े रहने से रात्रि के समय निकलने वाले लोगों को ठोकर लगती रहती है। वाहन चालकों को भी परेशानी उठानी पड़ती है।
ठेकेदार को ब्लेक लिस्टेड कर दिया है। अब लोकसभा चुनावों के बाद नए टैंडर कराएंगे। विकल्प के रूप में ग्राम पंचायतों को ही सीसी, खंरचों, इन्टरलॉकिंग की मरम्मत के लिए राशि दी जाएगी।
जमना लाल यादव, सहायक अभियन्ता, जलदाय विभाग अटरू

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned