scriptWeather changed, Weather News, Cloudy, Rained, Western Disturbance, | weater update : पश्चिमी विक्षोभ के असर से बदला मौसम, छाए रहे बादल | Patrika News

weater update : पश्चिमी विक्षोभ के असर से बदला मौसम, छाए रहे बादल

locationबारांPublished: Nov 26, 2023 11:13:28 pm

Submitted by:

mukesh gour

मौसम विभाग ने जारी किया जिले के लिए दो दिन का यैलो अलर्ट

weater update : पश्चिमी विक्षोभ के असर से बदला मौसम, छाए रहे बादल
weater update : पश्चिमी विक्षोभ के असर से बदला मौसम, छाए रहे बादल
जिले में रविवार को मौसम फिर से बदल गया और सुबह से ही आसमान में बादल छा गए। जिले में अधिकतम तापमान 27 डिग्री और न्यूनतम 17 डिग्री रहा। दिन और रात के तामपान में 10 डिग्री का अंतर आ जाने से गर्मी और सर्दी दोनों मौसमों का असर देखने को मिल रहा है। इससे मौसमी बीमारियां भी पनप रही हैं। मौसम विभाग के अनुसार सोमवार और मंगलवार को बारां सहित पूर्वी राजस्थान के कई जिलों में बादल छाए रहने और हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना जताई गई है। मौसम विभाग ने जिले के लिए यैलो अलर्ट भी जारी किया है।
क्यों हो रहा ऐसा

दरअसल, मौसम विभाग ने पश्चिमी विक्षोभ के आगामी दो दिनों में सक्रिय होने का पूर्वानुमान लगाया है। इसका असर प्रदेश के कई जिलों पर रहेगा। बारां जिला भी इनमें शामिल है। बुधवार से मौसम साफ और शुष्क हो जाएगा। अभी वातावरण में नमी का प्रतिशत 28 दर्ज किया गया है। हवा की अधिकतम रफ्तार 26 किमी प्रतिघंटा तक दर्ज की है। इसके बाद तापमान में गिरावट दर्ज की जाएगी। इन दिनों तापमान में अंतर होने से सुबह और रात को सर्दी का अहसास हो रहा है। जबकि दिन में मौसम गर्म हो जाता है। पिछले दिनों जिले का न्यूनतम तापमान 13 डिग्री के आंकड़े को छू गया था। इसके बाद के दिनों में न्यूनतम तापमान फिर से बढ़ गया।
रबी फसलों की बुवाई में जुटे किसान

जिले में सर्दी का मौसम शुरू होने के साथ ही किसानों ने फिर से खेतों का रुख कर लिया है। इन दिनों खेतों में खासी चहल-पहल देखी जा रही है। कृषि विभाग के अधिकारियों के अनुसार जिले में सरसों की बुवाई लगभग अब अपने अंतिम दौर में है। इसके साथ ही चना, लहसुन और धनिये की बुवाई भी जोर पकड़ रही है। किसान अभी गेहूं की बुवाई में पूरी तरह से जुटे हुए हैं। जिले में यह दौर अगले एक पखवाड़े तक जारी रहने वाला है। जिले में इस बार करीब 3.5 लाख हैक्टेयर इलाके में रबी की फसलों को बोए जाने का अनुमान है। साथ ही करीब 1.5 लाख हैक्टेयर में अब तक सरसों की बुवाई हो चुकी है।

ट्रेंडिंग वीडियो