scriptWhite roli in mustard, Downy midulu disease in garlic | सरसों में सफेद रोली, लहसुन में डाउनी मिडूलु रोग | Patrika News

सरसों में सफेद रोली, लहसुन में डाउनी मिडूलु रोग

किसानों का कहना है कि खेतों में गीला नहीं सूखने से सभी फसलों की बढ़वार के साथ सरसों में पकाव का दौर थम गया है। ऐसे में इंतजार करना पड़ेगा। जिले में इस वर्ष लगभग 3.35 लाख हैक्टेयर जमीन में रबी की फसलों की बुवाई हुई है।

बारां

Published: January 13, 2022 07:47:47 pm

बारां. मौसम के असर से अब रबी की फसल सरसों व लहसुन में आंशिक रोग सामने आने लगा है। हालांकि यह मौसम गेहूं व चने की फसल के लिए कृषि अधिकारी मौसम मुफीद भी बता रहे हैं। वहीं, किसानों का कहना है कि खेतों में गीला नहीं सूखने से सभी फसलों की बढ़वार के साथ सरसों में पकाव का दौर थम गया है। ऐसे में पकाव व कटाई के लिए और भी इंतजार करना पड़ेगा। जिले में इस वर्ष लगभग 3.35 लाख हैक्टेयर जमीन में रबी की फसलों की बुवाई हुई है।
जिले के कई क्षेत्रों खासकर अगेती बुवाई की सरसों में अब सफेद रोली (अद्र्ध कुंडलक) रोग नजर आने लगा है। इससे सरसों की फलियां सिकुडऩे के साथ इसके पत्तो पर सफेद चकते (धब्बे) नजर आते है। फलियों के सिकुडऩे से उनमे दाना बनने व पकने की प्रक्रिया पर प्रतिकूल असर पड़ता है तथा उत्पादन कम हो जाता है। यह रोग फिलहाल किशनगंज व शाहाबाद उपखंड क्षेत्र के कई गांवों में नजर आया है। किसानों का कहना है कि खरीफ में अतिवृष्टि से खराबा होने के बाद अब रबी में सरसों के अच्छे उत्पादन की उम्मीद थी, लेकिन फिलहाल तो मौसम इस पर पानी फेरता नजर आ रहा है।
लहसुन में दिखने लगा डाउनी मिडूलु
किसानों व कृषि विशेषज्ञ बताते हैं कि लम्बे समय से मौसम का मिजाज अनुकूल नहीं होने से लहसुन की फसल में डाउनी मिडूलु रोग नजर आ रहा है। इससे लहसुन के पौधों की पत्तियां सिकुड़ कर पीली पडऩे लगी है। इस रोग से जो पौधे नष्ट होते हैं, उनसे उत्पादन नहीं मिलता। ऐसे में रबी में मुनाफे की फसल माने जाने वाले लहसुन से भी किसानों की उम्मीदों को झटका लगने के आसार बनने लगे हैं। हालांकि अभी गेहूं व चने की फसल में किसी प्रकार के रोग की जानकारी सामने नहीं आई है।

सरसों में सफेद रोली, लहसुन में डाउनी मिडूलु रोग
सरसों में सफेद रोली, लहसुन में डाउनी मिडूलु रोग

कीटनाशकों का करें छिड़काव
कृषि अधिकारियों ने सरसों व लहसुन उत्पादक किसानों को सरसों में सफेद रोली रोग लगा है तो उस पर नियन्त्रण के लिए मेनकोजीव व रिडोमिल दवा दो ग्राम प्रति लीटर पानी में घोल तैयार कर छिड़काव करें। जबकि लहसुन में एप्रोन दवा दो ग्राम लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करना चाहिए। कीटनाशक का घोल आवश्यकता अनुसार तैयार किया जाना चाहिए।
-फिलहाल कुछ क्षेत्रों सरसों व लहसुन की फसलों में रोग व्याधि की जानकारी मिली है, लेकिन यह आंशिक ही है। गेहूं व चने में किसी प्रकार का कोई रोग नहीं है। मौसम फसलों के लिहाज से अच्छा कहा जा सकता है। मौसम खुलने के बाद हालात तेजी से सामान्य हो जाएंगे।
अतीश कुमार शर्मा, उपनिदेशक कृषि विस्तार

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Corona Update in Delhi: दिल्ली में संक्रमण दर 30% के पार, बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 24,383 नए मामलेSSB कैंप में दर्दनाक हादसा, 3 जवानों की करंट लगने से मौत, 8 अन्य झुलसे3 कारण आखिर क्यों साउथ अफ्रीका के खिलाफ 2-1 से सीरीज हारा भारतUttar Pradesh Assembly Election 2022 : स्वामी प्रसाद मौर्य समेत कई विधायक सपा में शामिल, अखिलेश बोले-बहुमत से बनाएंगे सरकारParliament Budget session: 31 जनवरी से होगा संसद के बजट सत्र का आगाज, दो चरणों में 8 अप्रैल तक चलेगाHowrah Superfast- हावड़ा सुपरफास्ट से यात्रा करने वाले यात्रियों को परिवर्तित मार्ग से करना पड़ेगा सफर, इन स्टेशनों पर नहीं जाएगी ट्रेनपूर्व केंद्रीय मंत्री की भाजपा में वापसी की चर्चाएं, सोशल मीडिया पर फोटो से गरमाई सियासतTrain Reservation- अब रेल यात्रियों के पांच वर्ष से छोटे बच्चों के लिए भी होगी सीट रिजर्व, जानने के लिए पढ़े पूरी खबर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.