अमृतं जलम् अभियान में तालाब की खुदाई, ,आईएएस अफसर बोले- पत्रिका का प्रयास सराहनीय

jitendra verma | Updated: 04 Jun 2019, 03:38:07 PM (IST) Bareilly, Bareilly, Uttar Pradesh, India

अभियान में लोगों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया और तलाब की सफाई करने के साथ ही तालाब की खुदाई भी शुरू हो गई।

बरेली। जल संरक्षण के लिए शुरू किए पत्रिका के अमृतं-जलम अभियान को हर तरफ से समर्थन मिल रहा है। अभियान के तहत मंगलवार को बरेली के भोजीपुरा ब्लॉक के प्रहलादपुर गाँव में तालाब की सफाई और खुदाई के अभियान की शुरुआत की गई। अभियान में लोगों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया और तलाब की सफाई करने के साथ ही तालाब की खुदाई भी शुरू हो गई। एक माह के भीतर तालाब की खुदाई का कार्य पूरा हो जाएगा। अभियान की शुरुआत सीडीओ सतेंद्र कुमार ने की।

ये भी पढ़ें

अमृतं जलम्: VIDEO: अकबर के नवरत्नों में शामिल राजा टोडरमल ने बनवाया था यह 'ताल', आज है ऐसी दुर्दशा देखने वालों के निकल आएंगे आंसू

ग्रामीणों को होगा फायदा

एक माह में इस तालाब की खुदाई का कार्य पूरा हो जाएगा और बारिश में यह तालाब पानी से लबालब होगा। तालाब में पानी आ जाने से ग्रामीणों को इसका फायदा मिलेगा। तालाब की खुदाई करने वाले ग्रामीणों का कहना है कि तालाब में पानी आ जाने से ग्रामीणों को बड़ा फायदा होगा और ग्रामीण इस पानी को अपने तमाम कार्यों में लाएंगे।

ये भी पढ़ें

पत्रिका अमृतं जलम्: मेयर ने फावड़ा चलाकर की अभियान की शुरुआत

सीडीओ ने की तारीफ़

पत्रिका के अमृतं जलम अभियान की सीडीओ सतेंद्र कुमार ने जमकर तारीफ़ की। उनका कहना है कि जल सरक्षण के लिए पत्रिका का बहुत ही अच्छा अभियान चल रहा है जिसमे अलग अलग जगहों पर जो तालाब खुदाई का कार्य चल रहा है उसमे बढ़िया सहयोग मिल रहा है। जल संरक्षण के लिए जन अभियान बनाने की जरूरत है इसमें पत्रिका का प्रयास सराहनीय है और इसके लिए उन्होंने पत्रिका को धन्यवाद भी दिया।

ये भी पढ़ें

पत्रिका अमृतं जलम्: प्राचीन तालाब को बचाने के लिए किसानों ने किया श्रमदान, देखें वीडियो

पिछले वर्ष सहसिया गाँव में चला था अभियान

गत वर्ष भी पत्रिका के माध्यम से अमृतं जलम अभियान बरेली में चलाया गया था। पिछले वर्ष शहर से सटे साहसिया गाँव में अभियान चला था। जिसमे बरेली के मेयर उमेश गौतम भी शामिल हुए थे। साहसिया गाँव में लोगों ने श्रमदान कर तालाब को गहरा किया है जिससे इस तालाब में पानी की उपलब्धता है। इस वर्ष भी यहाँ पर विकल्प संस्था की तरफ से श्रमदान कर तालाब की खुदाई का कार्य चलाया जाएगा।

ये भी पढ़ें

पानी के श्रोत हो रहे हैं गायब, कैसे बुझेगी प्यास

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned