बैंक कर्मियों की हड़ताल से 200 करोड़ लेन-देन प्रभावित

बैंकों में तालाबंदी कर कर्मचारी स्टेट बैंक के मुख्य शाखा पर एकत्र हुए और केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

By: मुकेश कुमार

Published: 22 Aug 2017, 07:40 PM IST

बरेली। केंद्र सरकार की नीतियों के विरोध में मंगलवार को बैंक कर्मचारी हड़ताल पर रहे। जिसके कारण जिले की 150 बैंक शाखाओं में ताले लटक गए। बैंकों में तालाबंदी कर कर्मचारी स्टेट बैंक की मुख्य शाखा पर एकत्र हुए और वहां पर केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। बैंकों की राष्ट्रव्यापी इस हड़ताल में निजी बैंक शामिल नहीं हुए और उनकी शाखाएं खुली रही। बैंकों की हड़ताल से 200 करोड़ का लेन देन प्रभावित हुआ। बैंक हड़ताल के कारण बैंक के काम से आए लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा।

 

सरकारी बैंकों में रही तालाबंदी
केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स ने मंगलवार को बैंक हड़ताल की घोषणा की थी। जिसके कारण आज जिले की सभी सरकारी बैंकों में तालाबंदी रही। बड़ी संख्या में बैंक कर्मचारी स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की मुख्य शाखा पर एकत्र हुए और हड़ताल में शामिल होकर प्रदर्शन किया। इस दौरान केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गयी।

 

'बैंकों का निजीकरण व विलयीकरण देश विरोधी कदम'
बैंक कर्मियों ने कहा कि बैंकिंग सुधार के नाम पर बैंकों का निजीकरण और विलयीकरण देश विरोधी कदम है। इसे बैंक कर्मी बर्दाश्त नहीं करेंगे। इसके साथ ही बैंक कर्मियों ने कहा कि एनपीए की वसूली के लिए सरकार से सख्त क़ानून बनाने की मांग की और कॉरपोरेट लेवल पर एनपीए को बट्टे खाते में डालने को दुर्भाग्यपूर्ण बताया गया। इसके साथ ही बैंक कर्मियों ने कहा कि इन मांगों को लेकर यूनाइटेड फोरम के अधिकारी और कर्मचारी 15 सितंबर को जंतर मंतर पर प्रदर्शन करेंगे।

 

पंजाब एंड सिंध बैंक के कार्यालय को बंद कराया
बैंक हड़ताल के दौरान पंजाब एंड सिंध बैंक का आंचलिक कार्यालय खुल गया। इसकी सूचना जब हड़ताली कर्मचारियों को हुई तो उन्होंने मौके पर पहुंच कर कार्यालय को बंद करा दिया।

निजी बैंक खुले
बैंक हड़ताल का असर निजी बैंकों पर नहीं पड़ा। निजी बैंकों की सभी शाखाएं खुली और वहां पर रोज की तरह ही काम हुआ।

Narendra Modi
Show More
मुकेश कुमार
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned