लॉक डाउन पास बनाने में भी घूसखोरी, आडियो वायरल होने के बाद कर्मचारी निलम्बित

पास बनाने के लिए चपरासी का 2500 रुपये की रिश्वत मांगने का ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था जिसके बाद प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए चपरासी को निलंबित किया है।

By: jitendra verma

Published: 22 May 2020, 11:19 AM IST

बरेली। कोरोना काल में भी कुछ कर्मचारी घूस खोरी से बाज नहीं आ रहे हैं। लॉक डाउन के नाम पर पास बनाने के लिए घूसखोरी का ऑडियो वायरल होने के बाद एडीएम प्रशासन वीके सिंह ने चपरासी के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उसे निलम्बित कर दिया है और कोतवाली में चपरासी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के आदेश दिए हैं। पास बनाने के लिए चपरासी का 2500 रुपये की रिश्वत मांगने का ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था जिसके बाद प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए चपरासी को निलंबित किया है।

दर्ज होगी एफआईआर
शहर से बाहर जाने के लिए वाहन पास बनाने के लिए चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी 2500 रुपये मांग रहा था। पास बनवाने के लिए घूसखोरी के सौदेबाजी का ऑडियो वायरल हुआ था। आडियो में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी नन्हेलाल की आवाज सुनाई दे रही थी। आपदा के समय पास बनवाने के नाम पर रिश्व्त लेने का मामला छाया रहा जिसके बाद प्रशासन की भी किरकरी हुई थी। एडीएम प्रशासन ने इसकी जांच शुरू कर कर्मचारी को फरीदपुर तहसील में अटैच कर दिया था। ऑडियो की पड़ताल पूरी होने के बाद एडीएम ने नन्हेलाल को सस्पेंड कर दिया और कोतवाली में उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए। इस मामले पुलिस मुकदमा दर्ज कर आरोपी कर्मचारी से पूछताछ कर सकती है।

Show More
jitendra verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned