टीबी की रोकथाम के लिए चलेगा अभियान, 200 टीम गठित

1 जनवरी से 31 दिसंबर 2019 में जिले में सरकारी और निजी अस्पताल में 16380 टीबी के मरीज मिले थे।

By: jitendra verma

Published: 18 Feb 2020, 07:41 PM IST

बरेली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के अनुसार भारत को वर्ष 2025 तक देश को क्षयरोग मुक्त कराने के संकल्प को सफल बनाने के लिए राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है । इसके अंतर्गत सघन क्षय रोग खोजी अभियान चलाया जा रहा है। जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. सुधीर कुमार गर्ग ने बताया कि वित्तीय वर्ष 2019-2020 का अंतिम सक्रिय क्षय रोग खोजी अभियान 16 से 28 मार्च तक चलाया जाएगा । अभियान को सफल बनाने के लिए कुल 200 टीमें गठित की गयी हैं । टीमों को सहयोग प्रदान करने के लिए 40 सुपरवाइजर लगाये गए हैं । प्रत्येक टीम में तीन सदस्य होंगे। इस अभियान के लिए लैबटेक्नीशियन रिफ्रेशर ट्रेनिंग और ब्लॉक स्तरीय सुपरवाइजर एवं सहयोगियों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है ।

चल रहा इलाज

डॉ.गर्ग ने बताया कि क्षय रोगियों को निक्षय पोषण योजना के तहत इलाज के दौरान 500 रू प्रतिमाह दिया जाएगा।1 जनवरी से 31 दिसंबर 2019 में जिले में सरकारी और निजी अस्पताल में 16380 टीबी के मरीज मिले थे। जिनका इलाज चल रहा है। 2019 में 12 से 23 अक्टूबर तक सक्रिय क्षय रोगी खोजी अभियान चलाया गया था जिसमें 98 टीबी पॉजिटिव मरीज मिले थे। वर्ष 2020 में सरकारी और निजी क्षेत्रों में मिलाकर 1 जनवरी 2020 से अब तक 1760 नए मरीजों का इलाज शुरू कर दिया गया है।

टीबी के सामान्य लक्षण
भूख कम लगना, वजन कम होने लगना, बुखार आना, शाम को बुखार बढ़ जाना, पसीना आना, बच्चे का चिड़चिड़ा हो जाना। दो हफ्ते से ज्यादा खांसी आ रही हो, खांसी में खून आ जा रहा हो। इन्हीं लक्षणों को पहचानने के लिए सक्रिय क्षय रोग खोजी अभियान 16 से 28 मार्च तक चलेगा ।

Show More
jitendra verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned