हज यात्रा 2019: यात्रियों के लिए जरूरी ख़बर, जानिए क्या हुआ बदलाव

Bhanu Pratap Singh | Updated: 23 Jan 2019, 01:21:07 PM (IST) Bareilly, Bareilly, Uttar Pradesh, India

5 फरवरी तक हज यात्री को अपना मेडिकल प्रमाण पत्र और हज फीस की रसीद राज्य हज कमेटी को भेजना हैं।

बरेली। हज यात्रा 2019 पर जाने वाले यात्रियों के लिए मेडिकल फिटनेस संबंधी नियमों में बदलाव किया गया है। बरेली हज सेवा समिति के संस्थापक पम्मी खान वारसी ने बताया कि इस बार हज पर जाने वाले आजमीने हज को चेस्ट एक्सरे, सीबीसी रिपोर्ट, ब्लड ग्रुप और एमबीबीएस चिकित्सक का आरोग्य प्रमाण पत्र देना होगा । इसके लिए एक प्रोफॉर्मा भी जारी किया गया है। जबकि अभी तक एमबीबीएस डॉक्टर की आरोग्य प्रमाण पत्र के आधार पर ही यात्रा की अनुमति मिल जाती थी। 5 फरवरी तक हज यात्री को अपना मेडिकल प्रमाण पत्र और हज फीस की रसीद राज्य हज कमेटी को भेजना हैं।

हज सेवा समिति ने की मांग

बरेली हज सेवा समिति ने हज यात्रियों के लिये किए गए बदलाव के बाद ज़िला अस्पताल में अलग से व्यवस्था कराने की मांग की है जिससे कि हज पर जाने वालों को जांच के नाम पर ज्यादा रूपये न खर्च करने पड़े। समिति के महासचिव हाजी ई0 अनीस अहमद खाँ ने कहा कि आरोग्य प्रमाण पत्र के नए नियम से हज पर जाने वालों की मुश्किलें बढ़ेगी। उन पर अतिरिक्त खर्च का बोझ बढ़ेगा इसके साथ ही दूरदराज इलाकों से आने वाले हज यात्रियों को इसके लिए परेशानी भी उठानी पड़ेगी। इस लिए जिला अस्पताल में हज यात्रियों के लिए जांच की व्यवस्था की जाए।

5 फरवरी तक जमा करें पहली किश्त

हज कमेटी ने लॉटरी में चयनित होने वाले आजमीन के हज खर्च की पहली व दूसरी किश्त जमा करने की तिथियों की घोषणा कर दी है। 81 हजार रुपये की पहली किश्त 18 जनवरी से 5 फरवरी तक और 1,20,000 की दूसरी किश्त 20 मार्च तक जमा करनी है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned