scriptकबाड़ी की दुकान हटाने पर निगम टीम को घेराव, हाथापाई, जानें क्यों शौचालय में भागीं महिला पार्षद | Patrika News
बरेली

कबाड़ी की दुकान हटाने पर निगम टीम को घेराव, हाथापाई, जानें क्यों शौचालय में भागीं महिला पार्षद

बिहारीपुर में सरकारी शौचालय पर कबाड़ी का कब्जा होने की सूचना पर शुक्रवार को नगर आयुक्त निधि गुप्ता वत्स के आदेश पर अतिक्रमण दस्ता मौके पर पहुंचा तो क्षेत्रवासियों ने हंगामा कर दिया। कब्जा की शिकायत क्षेत्रीय महिला पार्षद भी टीम के साथ पहुंची।

बरेलीMay 31, 2024 / 08:18 pm

Avanish Pandey

बरेली। बिहारीपुर में सरकारी शौचालय पर कबाड़ी का कब्जा होने की सूचना पर शुक्रवार को नगर आयुक्त निधि गुप्ता वत्स के आदेश पर अतिक्रमण दस्ता मौके पर पहुंचा तो क्षेत्रवासियों ने हंगामा कर दिया। कब्जा की शिकायत क्षेत्रीय महिला पार्षद भी टीम के साथ पहुंची। कब्जा हटाने पर टीम के साथ कबाड़ी और उसके समर्थकों के बीच कहासुनी शुरू हो गई। इनमें से कुछ लोग उग्र हो गए। इस दौरान हाथापाई की भी नौबत आई और मामले ने काफी तूल पकड़ लिया। काफी मशक्कत के बाद टीम शौचालय को मुक्त करा सकी। वहीं हंगामे के बीच पार्षद और उसके बेटे पर भी रिशवत का आरोप लगा है।
धीरे-धीरे लोग उग्र हो गए और हो गया हंगामा
बिहारीपुर के वार्ड एक की पार्षद संतोष कश्यप ने आईजीआरएस पर शिकायत की थी कि उनके क्षेत्र में बने सरकारी शौचालय पर मुन्ना कबाड़ी ने कब्जा कर रखा है। शुक्रवार को नगरायुक्त निधि गुप्ता वत्स ने अतिक्रमण प्रभारी ललतेश कुमार सक्सेना को बुलाया और शौचालय को कब्जा मुक्त करने के निर्देश दिए। पूरे अमले के साथ टीम मौके पर पहुंची। टीम को देखते ही भीड़ जुट गई। धीरे-धीरे लोग उग्र हो गए और हंगामा खड़ा हो गया। हाथापाई की नौबत आ गई। इसी दौरान कब्जा करने वाले शहर के मशहूर मुन्ना कबाड़ी ने पार्षद और उसके बेटे पर सार्वजिनक तौर गंभीर आरोप लगा दिए। वहीं टीम ने जैसे-तैसे शौचालय में रखे सामान को हटाया और ताला डाल दिया।
सरकारी शौचालय में छुपाया जाता है चोरी का सामान
पार्षद संतोष ने बताया कि सरकारी शौचालय में कबाड़ी ने कब्जा कर रखा था। इस पर हमने शिकायत की थी। सरकारी शौचालय पर कब्जा करके वहां चोरी का माल रखा जाता और चोरी की ही बिजली चलाता हैं। कबाड़ी मुन्ना ने बताया कि शौचालय के बाहर सामान रखा था। पार्षद के बेटे कबाड़ का सामान को जबरन लेने आया था।
आरोप निराधार हैं, मेरे पास साक्ष्य मौजूद हैं
पार्षद संतोष के बेटे ऋषभ ने कहा कि उन्होंने करीब 15 दिन पहले मुन्ना से मुलाकात कर कबाड़े की स्कूटी की डील की थी। उसने स्कूटी लेकर बाइक मैकेनिक को दी तो उसकी बॉडी काम की नहीं निकली। उसने दोबारा से मुन्ना को स्कूटी वापस कर रुपये वापस लिए थे। इन्हीं रुपयों की वह बात कर रहा है। पूरे घटनाक्रम की उनके पास ऑडियो भी है। उनकी मां संतोष ने कई बार पार्षद होने के नाते अतिक्रमण की शिकायत भी की है। मुन्ना उनके परिवार से दुश्मनी भी मानता है।

Hindi News/ Bareilly / कबाड़ी की दुकान हटाने पर निगम टीम को घेराव, हाथापाई, जानें क्यों शौचालय में भागीं महिला पार्षद

ट्रेंडिंग वीडियो