script रजिस्ट्री ऑफिस में बैनामे के फर्जीबाड़े पर लगेगी लगाम, आधार कार्ड के सत्यापन, फिंगरप्रिंट मिलान के बाद ही होगी रजिस्ट्री | Fraud will stop, documents can be issued only after matching half the | Patrika News

रजिस्ट्री ऑफिस में बैनामे के फर्जीबाड़े पर लगेगी लगाम, आधार कार्ड के सत्यापन, फिंगरप्रिंट मिलान के बाद ही होगी रजिस्ट्री

locationबरेलीPublished: Dec 30, 2023 02:30:41 pm

Submitted by:

Avanish Pandey

बरेली। जमीनों के बैनामे में फर्जीवाड़े को रोकने के लिए लखनऊ में कैबिनेट की पूर्व में हुई बैठक में यह प्रस्ताव मंजूर हो चुका है, लेकिन अभी धरातल पर व्यवस्था लागू नहीं हो सकी है। जल्द आधार कार्ड और फिंगर प्रिंट से मिलाने के बाद ही बैनामे हो सकेंगे। उम्मीद जताई जा रही है कि आने वाले कुछ समय में जिले में यह व्यवस्था लागू हो जाएगी।

property_registry_.jpg
कुछ समय में आधार प्रमाणीकरण की व्यवस्था अनिवार्य हो जाएगी

जिले की छह तहसीलों में सात निबंधन कार्यालय है। औसतन प्रतिदिन 200 से 250 बैनामे होते हैं। कई बार फर्जी वैनामे होने के मामले भी सामने आ चुके हैं, जिसकी वजह से समस्याएं बढ़ जाती है। जानकारों के अनुसार आने वाले कुछ समय में आधार प्रमाणीकरण की व्यवस्था अनिवार्य हो जाएगी। इसके तहत अगर कोई भी क्रेता-विक्रेता जमीन का बैनामा कराता है तो उसके फिंगर प्रिंट का मिलान दोनों के आधार कार्ड के डाटा में अपलोड अंगुलियों के निशान से किया जाएगा।
आधार को लिंक करते ही उसकी पूरी जानकारी फोटो के सामने आ जाएगी

संबंधित व्यक्ति के आधार को लिंक करते ही उसकी पूरी जानकारी फोटो के सामने आ जाएगी। अगर कोई खेल होगा तो पकड़ में आ जाएगा। अभी रजिस्ट्री में पहचान पत्र के तौर पर वोटर आईडी, बैंक पासबुक आदि प्रयोग हो रहा है। मौजूदा समय में रजिस्ट्री कराते समय अंगूठे के निशान लिए जाते हैं लेकिन संबधित व्यक्ति का आधार डाटा से मिलान नहीं किया जाता है, इससे फर्जीवाड़े होने की संभावना बनी रहती है, मगर व्यवस्था में बदलाव के बाद भू-खंड का जीओ टैगिंग फोटो देने से चौहद्दी लिखने में मनमानी नहीं होगी।

आधार प्रमाणीकरण के लिए काम चल रहा है। इसके लिए रजिस्ट्रार कार्यालयों में रजिस्ट्री का सॉफ्टवेयर डिजिटल रूप से लिकअप किया जाएगा। उसके ट्रॉयल के बाद बायोमीट्रिक मशीन लगाकर व्यवस्था लागू कर दी जाएगी। - तेज सिंह यादव, एआईजी स्टांप

ट्रेंडिंग वीडियो