सलाखों के पीछे निखर रहा है बाल हुनर

सलाखों के पीछे निखर रहा है बाल हुनर

jitendra verma | Updated: 26 May 2019, 02:16:43 PM (IST) Bareilly, Bareilly, Uttar Pradesh, India

सीडीओ सतेंद्र सिंह की पहल पर जेल में बंद लड़के लड़कियों को स्वरोजगार के लिए दिया जा रहा है प्रशिक्षण

बरेली।जिस उम्र में उन्हें खेलना कूदना था और स्कूल जाना था उसी उम्र में उन्होंने अपराध की दुनिया में कदम रख दिया। किशोरावस्था में किए गए अपराध के कारण उन्हें सलाखों के पीछे जाना पड़ा। किशोरावस्था में किए गए अपराध के कारण उनका भविष्य अन्धकारमय न हो इसके लिए बरेली के सीडीओ सतेंद्र सिंह ने नई पहल की है। बाल सम्प्रेक्षण गृह में बंद किशोर बंदियों को फर्नीचर बनाने और लड़कियों को ब्यूटी पार्लर का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। जिससे ये हुनरमंद हो सके और इनका भविष्य खराब न हो।

मास्टर ट्रेनर ने दी ट्रेनिंग

सीडीओ सतेंद्र सिंह ने बताया कि लगभग 22 लड़कों को फर्नीचर बनाने की ट्रेनिंग दी गई थी और 25 लड़कियों को ब्यूटी पार्लर का कोर्स कराया गया था। इसके लिए जेल के अंदर ही इनके प्रशिक्षण की व्यवस्था की गई थी और ट्रेनर द्वारा इन्हे प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण के बाद ये लोग अब पूरा काम जान गए है। इनमे से तमाम लड़के लड़कियों को नौकरी के ऑफर भी मिले है तो कुछ लड़कियां अपने गाँव में ब्यूटी पार्लर खोलना चाहती है।

कम्प्यूटर चलाना भी सीखे किशोर

बाल सम्प्रेक्षण गृह में बंद किशोरों को सिर्फ फर्नीचर बनाने की ही ट्रेनिंग नहीं दी गई बल्कि कुछ लड़कों को कम्प्यूटर चलाने की ट्रेनिंग भी दी गई और अब इनको लड़कों को कम्प्यूटर का ज्ञान हो गया है और ये लड़के कम्प्यूटर पर काम भी करते हैं।

खेलो पत्रिका Flash Bag NaMo9 Contest और जीतें आकर्षक इनाम, कॉन्टेस्ट मे शामिल होने के लिए http://flashbag.patrika.com पर विजिट करें।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned