scriptपुलिस की घुड़की से माफिया की पैंट गीली, राजीव राना के भाई, दोनों बेटे और ड्राइवर गिरफ्तार, गये जेल | Patrika News
बरेली

पुलिस की घुड़की से माफिया की पैंट गीली, राजीव राना के भाई, दोनों बेटे और ड्राइवर गिरफ्तार, गये जेल

पीलीभीत बाईपास पर सरेआम गुंडई करने वाले राजीव राना, उसके दोनों बेटे, भाई और ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया। उनके खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा इज्जतनगर थाने में दर्ज है। एक माफिया को पुलिस ने इज्जतनगर थाने के बजाय पुलिस लाइंस में रखा था। पुलिस की घुड़की और हड़काने पर माफिया की पैंट गीली हो गई।

बरेलीJun 28, 2024 / 05:03 pm

Avanish Pandey

पुलिस की गिरफ्त में आरोपी।

बरेली। पीलीभीत बाईपास पर सरेआम गुंडई करने वाले राजीव राना, उसके दोनों बेटे, भाई और ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया। उनके खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा इज्जतनगर थाने में दर्ज है। एक माफिया को पुलिस ने इज्जतनगर थाने के बजाय पुलिस लाइंस में रखा था। पुलिस की घुड़की और हड़काने पर माफिया की पैंट गीली हो गई। उसने सब कुछ कबूल लिया। खादी से लेकर खाकी तक सभी के नाम माफिया ने रट्टू तोते की तरह बक दिये हैं। पुलिस अब सभी के खिलाफ गैंगस्टर और एनएसए के तहत कार्रवाई की तैयारी में जुट गई है।
पांच गिरफ्तार, हिस्ट्रीशीटर केपी यादव अभी तक फरार
प्रापर्टी डीलर से माफिया बने राजीव राना को शुक्रवार को जेल भेज दिया। इससे पहले गुरुवार की रात में ही सीओ तृतीय नगर के साथ इज्जतनगर पुलिस ने दबिश देकर अलग-अलग जगह से राना के परिवार के चार लोगों और उसके ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया। इनमें बारादरी थाना क्षेत्र के 34 ए संजय नगर के रहने वाले राजीव राना के भाई हरिओम सिंह और राधेश्याम पुत्र स्व० कल्लूराम। राजीव राना के दो बेटे आशीष राना और राजन राना निवासी 647 रामायण आवास सुरेश शर्मा नगर थाना बारादरी और जोगी नवादा गोसाई गोटिया निवासी ड्राइवर दिनेश पुत्र सुरेश कठेरिया शामिल हैं। इस मामले में एक आरोपी हिस्ट्रीशीटर केपी यादव अभी तक फरार है। पुलिस उसे गिरफ्तार नहीं कर पा रही है।
शहर में ही छिपा रहा राना, नाटकीय ढंग से पुलिस के पास पहुंचा
राजीव राना को उसके होटल के पास ही कैमरे की नजर में सरेंडर करने वाले भी नये एसएसपी अनुराग आर्य के रेडार पर आ गये हैं। इस पूरे मामले की जांच शुरू हो गई है। आखिरकार किन लोगों ने सेटिंग कर राना को बुलाया और उसे पुलिस के सामने हैंड ओवर किया गया। इससे पहले जब पुलिस राना को बरेली और आस पास के जिलों में ढूंढ रही थी। उस वक्त राना बरेली में ही छिपा हुआ था। इस पूरी फिक्सिंग के पीछे कौन हैं। उनको बेनकाब करने की तैयारी चल रही है। 22 जून को आदित्य उपाध्याय और राजीव राना दो गुटों में प्लॉट पर कब्जे को लेकर गोलीकांड हो गया था। इस मामले में ही राना वांटेड था। पूरे शहर में चर्चा है कि जिस राना को सब जगह ढूंढा जा रहा था। उसे आखिरकार कौन छिपाये रहा।

Hindi News/ Bareilly / पुलिस की घुड़की से माफिया की पैंट गीली, राजीव राना के भाई, दोनों बेटे और ड्राइवर गिरफ्तार, गये जेल

ट्रेंडिंग वीडियो