अलविदा व ईद पर आम लोगों के लिए खोली जाएं देश भर की मस्जिदें

दरगाह आला हजरत स्थित जमात रज़ा-ए-मुस्तफ़ा के मुख्य कार्यालय पर रविवार को जमात के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सलमान मियां की सरपरस्ती में जमात कोर कमेटी की बैठक हुई।

By: jitendra verma

Updated: 10 May 2020, 04:51 PM IST

बरेली। दरगाह आला हजरत स्थित जमात रज़ा-ए-मुस्तफ़ा के मुख्य कार्यालय पर रविवार को जमात के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सलमान मियां की सरपरस्ती में जमात कोर कमेटी की बैठक हुई। बैठक में सलमान मियां ने भारत सरकार से यह मांग रखी है कि अलविदा(जुम्मा) व ईद-उल-फितर के लिए आम नमाजियों के लिए देश भर की तमाम मस्जिद खोली जाएं और मस्जिद में नमाज पढ़ने की अनुमति दी जाए जिससे कि मुसलमान अपनी अलविदा(जुम्मा) व ईद की नमाज़ मस्जिदों में अदा कर सकें, क्योकि अलविदा(जुम्मा) व ईद-उल-फितर का त्योहार साल में एक बार आता है। जिसमें बच्चे हों या बूढ़े सबको अलविदा(जुम्मा) और ईद की सुबह मस्जिद में नमाज़ पढ़ने की खुशी होती है।
बैठक का हुआ आयोजन
सलमान मियां ने कहा कि कोरोना वायरस जैसी महामारी को देखते हुए मुल्क मे चल रहे लॉकडाउन को‌ कामयाब बनाने के लिए हमने ख़ुद ही अपने हिन्दुस्तान की परवाह करते हुए सुन्नी बरेलवी मरकज़ दरगाह आला हज़रत से मस्जिदों में चंद लोगों द्वारा ही नमाज़ अदा करने का एलान किया था। और बाकी लोगो को अपने-अपने घर पर ही रहकर इबादत‌ करने का ऐलान कर दिया था। मुसलमानों ने हमेशा अपने देश के लिए कुर्बानी दी है। हमारे मुल्क की हुकूमत से हम यह गुजारिश करते हैं की हमारी मस्जिदों को आम नमाजियों के लिए खोलकर उसमे नमाज़ पढ़ने की अनुमति दी जाए।
ये रहे मौजूद
जमात के प्रवक्ता समरान खान ने सलमान मियां के हवाले से बताया कि लॉक डाउन में जब तमाम दुकानें खुल सकती हैं शराब के ठेके खुल सकते हैं, मजदूर और यात्रियों को लाया जा सकता है तो फिर मस्जिदों में तो मुसलमान इबादत करेगा जिसमें एक नमाज़ में 5 मिनट से ज़्यादा नहीं लगते है। ऐसे में देश के प्रधानमन्त्री के साथ सूबे के मुख्यमन्त्री से गुजारिश करते हैं कि मस्जिदों को भी आम नमाज़ियो के लिए खोलने की और उनमें नमाज़ पढ़ने की अनुमति दी जाए। इस मौके पर मुख्य रुप से शमीम खाँ सुल्तानी, समरान खान, डॉक्टर मेहंदी हसन, हाफ़िज़ इकराम रज़ा खाँ, शमीम अहमद, मौलाना निजाम, आदी मौजूद रहें।

Show More
jitendra verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned