निजी स्कूल संचालकों को नहीं योगी सरकार का डर, वसूल रहे एडवांस फीस

निजी स्कूल संचालकों ने न सिर्फ फीस बढ़ायी बल्कि अभिभावकों पर दबाव बना बढ़ी हुई फीस भी वसूल कर ली है।

By: मुकेश कुमार

Published: 25 Apr 2018, 04:35 PM IST

बरेली। निजी स्कूलों की मनमानी पर लगाम लगाने के लिए प्रदेश सरकार ने अध्यादेश बनाया, लेकिन निजी स्कूल संचालकों को इसका कोई डर नहीं है। स्कूल संचालकों ने मनमाने तरीके से न सिर्फ फीस को बढ़ाया बल्कि अभिभावकों पर दबाव बनाकर बढ़ी हुई फीस भी वसूल कर ली है। निजी स्कूलों की शिकायतें जब प्रशासनिक अफसरों के पास पहुंची तो डीआईओएस कार्यालय में कंट्रोल रूम स्थापित किया गया। जहां पर अभिवावकों ने फोन कर शिकायतें दर्ज कराई है। कंट्रोल रूम में मनमानी फीस वसूली से लेकर स्कूलों की अन्य मनमानी की भी शिकायतें दर्ज कराई है। बावजूद इसके अभी तक स्कूलों की मनमानी पर कोई लगाम नहीं लग सकी है।


तमाम तरह की शिकायतें
कंट्रोल रूम में फोन कर अभिभावकों ने स्कूलों द्वारा ज्यादा फीस वसूली की शिकायत की है। इसके साथ ही एडवांस में भी फीस जमा कराने का दबाव बनाए जाने की भी शिकायतें अभिभावकों द्वारा दर्ज कराई गई है। इसके साथ ही किताबें, ट्रांसपोर्टेशन से लेकर तमाम तरह की शिकायतें कंट्रोल रूम में दर्ज कराई जा रही है।


नाम बताने से डर रहे अभिभावक
कंट्रोल रूम में शिकायत करने वाले बहुत से ऐसे भी अभिभावक हैं। जिन्हें अपने बच्चे के भविष्य की भी चिंता है। इसलिए बहुत से पैरेंट्स शिकायत दर्ज कराते समय अपना नाम बताने से बच रहे हैं। अगर अभिभावक अपना और बच्चे का नाम बता भी देते हैं तो कंट्रोल रूम से गुजारिश करते हैं कि वो उनका नाम स्कूल संचालक को न बताएं।


आरटीई का भी मजाक
गरीब और निर्बल वर्ग के बच्चों को कान्वेंट स्कूल में पढ़ाए जाने के लिए बने आरटीई का भी स्कूल पालन नहीं कर रहे हैं। शहर के वार्ड 49 की रहने वाली मिष्ठी का एडमीशन आरटीई के तहत नहीं हो सका है। मिष्ठी के अभिभावकों ने इसकी शिकायत बीएसए से की है। अभिभावकों का कहना है कि उनकी बेटी का नाम पहली सूची में बीबीएल स्कूल के लिए आया था लेकिन स्कूल ने एडमीशन नहीं किया। इसी तरह से तमाम अभिभावक है जो आरटीई के तहत अपने बच्चों का एडमीशन कराने के लिए इधर उधर भटक रहे हैं।


क्या बोले कमिश्नर
वही निजी स्कूल की इस मनमानी पर कमिश्नर का कहना है कि शिकायत वाले स्कूलों को नोटिस जारी किया जाएगा और 15 दिन में सम्बंधित स्कूल को जवाब देना होगा। जवाब न देने पर अध्यादेश के नियमों के अनुसार कार्रवाई की जाएगी।


एक स्कूल पर हो चुकी है एफआईआर
शहर के प्रतिष्ठित बीबीएल स्कूल पर फीस को लेकर एफआईआर भी दर्ज हो चुकी है। मेयर की पहल पर स्कूल के मालिक और प्रिंसिपल पर एफआईआर दर्ज कराई गई है। स्कूल ने फीस जमा न करने पर छात्र को प्रताड़ित किया था और उसका नाम स्कूल से काट दिया था। छात्र की मां ने इसकी शिकायत मेयर उमेश गौतम से की थी। जिसके बाद मेयर की पहल पर स्कूल के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है।

Show More
मुकेश कुमार
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned