UP Board Exam: परीक्षा के दौरान ऐसे रहें तनाव से मुक्त, आएँगे अच्छे मार्क्स

बोर्ड की परीक्षाएं आते ही विद्यार्थियों को चिंता, तनाव, उदासीनता जैसी समस्याएं घेर लेती हैं। इस समस्या के चलते कई बार पूरा याद होने के बाद भी बच्चे परीक्षा में कुछ लिख नहीं पाते और अवसाद में चले जाते हैं।

बरेली। बोर्ड की परीक्षाएं आते ही विद्यार्थियों को चिंता, तनाव, उदासीनता जैसी समस्याएं घेर लेती हैं। इस समस्या के चलते कई बार पूरा याद होने के बाद भी बच्चे परीक्षा में कुछ लिख नहीं पाते और अवसाद में चले जाते हैं। विद्यार्थियों की इन समस्याओं को देखते हुए चिकित्सा स्वास्थ्य महानिदेशक की ओर से निर्देश जारी किए हैं कि राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के अंतर्गत विद्यार्थियों को लाइफस्किल तथा स्ट्रेसमैनेजमेंट एवं डेवलपमेंट के लिए काउंसलिंग की जाए। इस संदर्भ में बरेली की जिला मानसिक स्वास्थ्य टीम स्कूलों में जाकर अब तक1591 बच्चों की काउंसलिंग कर चुकी है ।

ये भी पढ़ें

UP Board Exam:विज्ञान विषय के छात्र बरतें ये सावधानियां- देखें वीडियो

UP Board Exam: परीक्षा के दौरान ऐसे रहें तनाव से मुक्त, आएँगे अच्छे मार्क्स

छात्रों की हुई काउंसलिंग

मनोचिकित्सक डॉ. आशीष ने बताया कि बोर्ड की परीक्षाएं आते ही बच्चों पर शिक्षक और अभिभावक परीक्षा में अव्वल आने के लिए दबाव डालने लगते हैं वही बच्चे दूसरे बच्चों की देखा देखी में बहुत अच्छा करने के लिए अपने आप पर जरूरत से ज्यादा प्रेशर डालते हैं जिसका नतीजा खराब ही आता है इसलिए इस समय बच्चों को प्लानिंग करके पढ़ना और अच्छी डाइट लेना और सोना बहुत जरूरी होता है। उन्होंने बताया करीब एक माह में बरेली इंटरकॉलेज में 331, राजकीय इंटरकॉलेज में 149, राम भरोसे गर्ल्सइंटरकॉलेज में 81, स्त्री सुधार कन्या इंटरकॉलेज में 50, तिलक इंटरकॉलेज में 19, इस्लामिया गर्ल्स इंटर कॉलेज में 891 छात्रों की काउंसलिंग की जा चुकी है। स्कूलों में जब छात्रों से बात की गई तो छात्रों ने बताया कि याद ना होना , नींद ना आना , भूख ना लगना जैसी समस्याओं से वह गुजर रहे है वही माता पिता उन्हें 24 में से 20 घंटे पढ़ने का दबाव बनाते हैं ऐसे में बच्चों को समझ में नहीं आता कि वह करे तो क्या करें | जिला मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम की टीम बच्चों को खाने ,सोने और पढ़ने की प्लानिंग बता बताकर उनके कंफ्यूजन को दूर करती हैं।

ये भी पढ़ें

Key To Success: Board Exam में इस तरह तैयारी कर पाई जा सकती है सफलता

UP Board Exam: परीक्षा के दौरान ऐसे रहें तनाव से मुक्त, आएँगे अच्छे मार्क्स

बच्चे अपने लिए जरूर निकालें समय
क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट खुश अदा ने बच्चों को बताया कि लगातार पढ़ते पढ़ते दिमाग थक जाता है और इंफॉर्मेशन नहीं ले पाता है ।
-दिमाग को रिफ्रेश करने के लिए आधे से एक घंटा पढ़ना और उसके बाद 5 से 10 मिनट रेस्ट लेना जरूरी है।
- रट के पढ़ने से अच्छा हमेशा समझ कर पढ़ना सही होता है इससे कोई भी प्रश्न आने पर हम उसका उत्तर सही तरीके से लिख सकते हैं।
- एग्जाम से पहले बच्चे अपने टीचरों से एग्जाम में आने वाले खास प्रश्न समझ ले और पूरी किताब पढ़ने के चक्कर में ना पड़े।
- फ्री टाइम में गाना सुनना, गार्डनिंग या पार्क में गाना जरूरी है।

किस प्रकार बनाएं अपना टाइम टेबल
बच्चों को कम से कम 8 घंटे की नींद लेनी चाहिए
जो बच्चा रात में पढ़ना चाहता है वह 6 घंटे रात में और 2 घंटा दोपहर में सो कर भी अपने 8 घंटे पूरा कर सकता है।
- सुबह जल्दी उठकर पढ़ना आवश्यक नहीं है बस उस समय पढ़ना चाहिए जब आपका दिमाग रिलेक्स हो।
- बच्चों को दूसरे की देखा देखी करके अपने को कम नहीं समझना चाहिए और अपना कॉन्फिडेंस बनाकर रखना चाहिए।
- याद किया हुआ कई बार रिवीजन करना बहुत जरूरी है।

ये भी पढ़ें

UP Board Exam की तैयारियां पूर्ण, नकल माफियाओं पर चलेगा डंडा

UP Board Exam: परीक्षा के दौरान ऐसे रहें तनाव से मुक्त, आएँगे अच्छे मार्क्स

घबराहट हो तो यह करें उपाय

खुशअदा ने बताया कि बच्चों में सर दर्द, याद ना होना या घबराहट की समस्या हो तो डीप ब्रीदिंग रिलैक्सेशन एक्सरसाइज कर सकते हैं । इस समय योगा और मेडिटेशन भी बहुत कारगर होता है। बच्चे कुर्सी या जमीन पर बैठे और पेट पर हाथ रखकर सांस अंदर ले और सांस बाहर छोड़ें यह एक्साइज 5 मिनट तक करें और दो तीन बार इस एक्साइज को रिपीट करें।

Show More
jitendra verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned