UP Budget 2020: बरेलवी उलेमा ने किया बजट का स्वागत, बोले अल्पसंख्यकों की योजनाओं को धरातल पर लाने की जरूरत

तंज़ीम उलेमा-ए-इस्लाम के राष्ट्रीय महासचिव मौलाना शहाबुद्दीन रज़वी ने कहा कि अल्पसंख्यकों के लिए चलाई जाने वाली योजनाओं को धरातल पर लाने की ज़रूरत है।

By: jitendra verma

Published: 18 Feb 2020, 08:09 PM IST

बरेली। उत्तर प्रदेश सरकार ने आज प्रदेश का सबसे बड़ा बजट पेश किया। बजट में अल्पसंख्यकों का विशेष ध्यान रखा गया है और उनके बजट में पिछली बार की तुलना में इजाफा किया गया है। तंज़ीम उलेमा-ए-इस्लाम के राष्ट्रीय महासचिव मौलाना शहाबुद्दीन रज़वी ने 2020- 21 के बजट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि बजट में अल्पसंख्यकों के उत्थान हेतु जो बजट पास किया गया है उसमें पिछले बजट से इस बजट में इज़ाफा किया गया है। मौलाना ने अल्पसंख्यकों के लिए दिये गये बजट पर खुशी ज़ाहिर करते हुए कहा कि अल्पसंख्यकों के लिए चलाई जाने वाली योजनाओं को धरातल पर लाने की ज़रूरत है। 2018-19 में जो योजनाएं लागू की गई थी उसका पैसा लैप्स हो गया। मौजूदा बजट में अल्पसंख्यकों के उत्थान हेतु योजनाओं में मदरसों के इन्फ्रास्ट्रक्चर पर ध्यान देने की जरूरत है ।

ये भी पढ़ें

UP Budget 2020: युवाओं को स्वावलंबी बनाने के लिए 1200 करोड़ की व्यवस्था

सरकार को दी सलाह
मौलाना शहाबुद्दीन रज़वी ने अल्पसंख्यक मंत्रालय को सलाह दी है कि हर जिले में उलेमा और दानेश्वरो की एक कमेटी का गठन किया जाए और निचले स्तर से लेकर उच्च स्तर तक अल्पसंख्यकों की ज़रूरतों और समस्याओं के निदान हेतु खाक़ा तैयार करें फिर इस रोड मैप के तहत काम किया जाएगा तो बजट का पास किया गया 5029 करोड़ रूपया धरातल पर उतर सकता है जिससे अल्पसंख्यकों के शिक्षा, समाजिक व आर्थिक हालात में कुछ बदलाव की तस्वीर पैदा हो सकती है। 329 करोड़ का इज़ाफ़ा किया जाना अल्पसंख्यकों के लिए एक अच्छा संकेत है।

ये भी पढ़ें

UP Budget में आगरा मेट्रो के लिए 286 करोड़ रुपए, अलीगढ़ में बनेगा विश्वविद्यालय

तलाकशुदा महिलाओं को भी पेंशन
इस बजट में खा़स तौर पर तलाक शुदा महिलाओं के लिए भी फंड रखा गया है इससे इन कमजोर महिलाओं को मदद मिलेगी और अपनी जिंदगी यापन के लिए दर दर ठोकर खाने से बचेगी मगर मुश्किल मसला यह है कि सरकारी योजनाएं और घोषणाएं धरातल पर नहीं उतर पातीं है। इस पर हुकूमत को ध्यान देंना चाहिए।

budget 2020
Show More
jitendra verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned