यूपी में सिस्टम रहा खामोश तो ग्रामीणों ने नदी पर खुद बना डाला पुल

पुल बनने से मीरगंज और आंवला तहसील के दर्जनों गाँव आपस में जुड़ गए हैं।

By: jitendra verma

Published: 30 Dec 2018, 12:22 PM IST

बरेली। मीरगंज तहसील में रामगंगा नदी के गोरा बसंतपुर घाट पर सरकार तो पुल नहीं बना सकी लेकिन ग्रामीणों ने श्रमदान कर लकड़ी का अस्थाई पुल का निर्माण कर डाला। अब यह पुल बनने से मीरगंज और आंवला तहसील के दर्जनों गाँव आपस में जुड़ गए हैं।

बसपा सरकार में शुरू हुआ था निर्माण

रामगंगा के गोरा बसंतपुर घाट पर पुल की जरूरत को देखते हुए बसपा सरकार में पुल का निर्माण शुरू हुआ तब से यहाँ पुल का निर्माण पूरा नहीं हो पाया है। भाजपा सरकार ने सात दिसंबर को पुल निर्माण के लिए 41 करोड़ रूपये का बजट मंजूर किया है लेकिन धनराशि अब तक अवमुक्त नहीं हो पाई है। ऐसे में पुल की जरूरत को देखते हुए ग्रामीणों ने सरकार की तरफ नहीं देखा और सैकड़ों ग्रामीणों ने श्रमदान कर यहाँ 15 दिन के भीतर ही यहाँ पर लकड़ी के पुल का निर्माण कर डाला।

आसान हुई राह
इस पुल के अस्थाई निर्माण से आंवला और मीरगंज तहसील के दर्जनों गाँवों के लोगों को राहत मिली है। पुल से बाइक सवार, साइकल सवार और पैदल यात्री नदी पार कर रहे हैं। पुल से एक दिन में चार से पांच हजार ग्रामीण नदी पार कर रहे हैं।हालांकि लकड़ी से बने इस पुल को पार करना जोखिम भरा भी हो सकता है लेकिन मजबूरी में ग्रामीण पुल पार कर रहे हैं।

Show More
jitendra verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned