धोरों में पकड़ी 11 लाख की विद्युत चोरी, तीन ट्रांसफार्मर मिले अवैध, जान जोखिम में डालने का खेल

- गिराब क्षेत्र के कुबडि़या में डिस्कॉम की कार्रवाई

By: Moola Ram

Published: 09 Dec 2017, 03:01 PM IST

बाड़मेर पत्रिका. जैसलमेर के बाद अब बाड़मेर जिले में भी अवैध विद्युत ट्रांसफार्मर लगाकर विद्युत चोरी व जान जोखिम में डालने का खेल सामने आ रहा है। सीमावर्ती गिराब क्षेत्र के कुबडि़या गांव में तीस हॉर्स पॉवर के तीन विद्युत ट्रांसफार्मर शुक्रवार को डिस्कॉम की सतर्कता टीम ने पकड़े है। टीम ने 11 लाख का जुर्माना भी लगाया है।

डिस्कॉम के अधीक्षण अभियंता मांगीलाल जाट ने बताया कि गिराब क्षेत्र के कुबडि़या गांव में सतर्कता टीम ने पुलिस जाब्ते के साथ दबिश दी। यहां परबतसिंह पुत्र रूपसिंह, शंकरसिंह पुत्र परबतसिंह एवं कानसिंह पुत्र लूणसिंह ने तीस हॉर्स पॉवर के तीन अवैध ट्रांसफार्मर लगाए हुए थे और विद्युत चोरी की जा रही थी। सतर्कता टीम के जीवणाराम के नेतृत्व में यहां कार्रवाई कर ट्रांसफार्मर जब्त किए गए।अवैध विद्युत ट्रांसफार्मर लगाकर विद्युत चोरी व जान जोखिम में डालने का खेल सामने आ रहा है।

नागौर-जैसलमेर और बाड़मेर में नेटवर्क- विद्युत चोरी का यह तरीका नागौर से शुरू हुआ है। इसके बाद जैसलमेर में भी अवैध विद्युत ट्रांसफार्मर से बिजली चोरी के मामले सामने आए। अब बाड़मेर के कृषि इलाकों में भी अवैध ट्रांसफार्मर आने लगे है।

जान डालते है जोखिम में- गांवों में विद्युत लाइनें आसपास से गुजर रही है। इन लाइनों के पास ट्रांसफार्मर लाकर लगाने का कार्य संंबंधित खुद ही कर रहे है। जो जोखिम भरा काम है। लेकिन चोरी के लालच में अपनी जान भी जोखिम में डाल रहे हैं।अवैध विद्युत ट्रांसफार्मर लगाकर विद्युत चोरी व जान जोखिम में डालने का खेल सामने आ रहा है।

इसलिए करते चोरी का खेल- कृषि कनेक्शन के लिए आवेदन करने के चार से पांच साल तक भी कनेक्शन डिस्कॉम नहीं दे रहा है। इतना इंतजार करने की बजाय किसान चोरी का रास्ता अपना रहे हैं। इसके लिए उनको खर्च भी उतना ही करना पड़ता है जितना डिस्कॉम से कनेक्शन लेने में लगता है। इसके बाद बिल भी नहीं आता है।

Moola Ram
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned