Video : कुपवाड़ा के 32 युवक 2 माह से सीमावर्ती गांवों में!

-सुरक्षा में सेंध

- कुछ समुदाय विशेष के घरों में ठहरे तो कुछ का कार्यस्थल पर निवास

- सुरक्षा एजेंसियों ने पुलिस को किया सतर्क

 

By: Moola Ram

Updated: 19 Jan 2019, 03:18 PM IST

चौहटन(बाड़मेर). सरहदी क्षेत्र में भारतमाला परियोजना के तहत चल रहे सड़क निर्माण में बाहरी लोगों के जमावड़े ने सुरक्षा में सेंध लगा दी है। सड़क निर्माण के नाम पर जम्मू-कश्मीर के सबसे संवेदनशील कुपवाड़ा जिले के 32 युवक बीते 2 माह से सीमावर्ती गांवों में रह रहे हैं।

इनमें से कुछ लोग एक समुदाय विशेष के घरों में तो कुछ टैंट में रह रहे हैं। इसको लेकर सुरक्षा एजेंसियों ने पुलिस को पहले ही अलर्ट कर रखा था, लेकिन अब तक उनके सीमावर्ती क्षेत्र में प्रवेश तथा पुलिस वेरिफिकेशन की स्थिति भी साफ नहीं है। नियमानुसार राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 68 के पश्चिमी क्षेत्रों में कोई भी बाहरी नागरिक बिना सक्षम अनुमति के नहीं जा सकता जबकि सड़क निर्माण इसी क्षेत्र में हो रहा है।

भारतमाला परियोजना में बड़ी संख्या में अन्य प्रदेशों से मजदूर काम पर लगे हैं। इनमें बिहार, झारखण्ड, यूपी, हरियाणा सहित जम्मू-कश्मीर के मजदूर और अन्य तकनीकी स्टाफ शामिल है। कुपवाड़ा के युवकों यहां लाने के लिए वहीं के ठेकेदार का कम्पनी से अनुबंध है। हालांकि पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि कम्पनी ने शुरुआत में उनके सीमावर्ती क्षेत्र में प्रवेश की अनुमति ली थी। लेकिन बीते 2 माह में कितने लोग और आए हैं और उन्होंने अनुमति ली या नहीं इसकी जानकारी नहीं है।

अन्य प्रदेशों के मजदूर कंपनी द्वारा बनाए गए टैंट और केबिन सहित कार्यस्थल पर ही रहते हैं पर कश्मीरी मजदूरों ने एक समुदाय विशेष के घरों और उनके द्वारा मुहैया करवाए गए मकान में निवास कर रहे हैं। कुछ जागरूक ग्रामीणों की सूचना पर गुप्तचर एजेंसियां सक्रिय हुई हैं और मौके पर पहुंच जानकारी जुटाई है।

मिठे का तला व गागरिया में ठहरे
कश्मीर के कुपवाड़ा से आए 32 युवक सरहदी इलाके में ठहरे हुए हैं। इनमें से 13 जने मिठे का तला गांव में निवास कर रहे हैं। वहीं शेष गागरिया क्षेत्र के निकट काम पर लगे हैं। इन्हें काम पर लाने वाला ठेकेदार भी अपने बीवी बच्चों के साथ मिठे का तला में रह रहा है।

बीते 2 माह में नई अनुमति नहीं

कंपनी के काम शुरू करने के दौरान ही काफी संख्या में मजदूर और अन्य स्टाफ के लिए अनुमति ली गई थी। बाद में कुछ नवीनीकरण भी हुए हैं। पिछले दो महीनों में कोई नई परमिशन जारी नहीं हुई है, अगर कोई बिना परमिशन है तो जांच की जाएगी।

-भूपेन्द्र कुमार यादव, उपखंड अधिकारी चौहटन

जांच करेंगे

जितने भी मजदूर काम पर हैं सभी की परमिशन ले रखी है। सभी के पहचान पत्र और संबंधित क्षेत्रों से पुलिस वेरिफिकेशन रिपोर्ट भी कार्यालय में जमा है। बावजूद इसके अगर कोई बिना अनुमति मौके पर है तो जांच करेंगे।
-सुरेन्द्र कुमार, पुलिस उप अधीक्षक चौहटन

Show More
Moola Ram
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned