बाड़मेर जिला अस्पताल में सेंट्रल ऑक्सीजन प्लांट तैयार, ट्रॉयल पूरा, जल्द होगा शुरू

-प्रत्येक बैड पर पाइप लाइन से पहुंचेगी ऑक्सीजन
-सभी 300 बैड पर ऑक्सीजन सप्लाई पाइंट
-ऑक्सीजन सिलेंडर वार्ड में ले जाने की नहीं रहेगी जरूरत
-मेडिकल कॉलेज अस्पताल में सेंट्रल ऑक्सीजन (उत्पादन) प्लांट बनकर तैयार

By: Mahendra Trivedi

Published: 18 Dec 2020, 08:34 PM IST

बाड़मेर. बाड़मेर जिला अस्पताल में सेंट्रल ऑक्सीजन (उत्पादन) प्लांट बन चुका है। जिसे एक-दो दिन में शुरू करने की तैयारी है। प्लांट का दो बार ट्रॉयल कर लिया गया है। जिसमें किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं आई।
बाड़मेर में मेडिकल कॉलेज शुरू होने के बाद चिकित्सा सुविधाओं में लगातार इजाफा हो रहा है। मेडिकल कॉलेज से सम्बद्ध जिला अस्पताल के समस्त वार्ड के बैड पर अब पाइप लाइन से ऑक्सीजन पहुंचेगी। इसके लिए काम पूरा कर लिया गया है। सभी बैड पर ऑक्सीजन के लिए पाइंट लगाए जा चुके हैं।
सभी 300 बैड पर ऑक्सीजन पाइंट
मेडिकल कॉलेज से सम्बद्ध जिला अस्पताल में कुल 300 बैड है। इसमें 210 बैड पुराने परिसर के अलग-अलग वार्ड में है। जिसमें से 26 बैड पर पाइप लाइन से ऑक्सीजन पहले से ही पहुंच रही है। जिसे सिलेंडर लगे ऑक्सीजन प्लांट से जोड़ा हुआ है। वहीं अन्य 184 बैड पर ऑक्सीजन के लिए पाइंट लगाए जा चुके हैं। अब वहां भी प्लांट से ऑक्सीजन पहुंचाई जाएगी।
इमरजेंसी के लिए मैनी फोल्ड प्लांट रहेगा स्टैंडबॉय
ऑक्सीजन उत्पादन प्लांट से पाइप लाइन से ऑक्सीजन की सप्लाई शुरू होने के बाद भी अस्पताल में स्थापित मैनी फोल्ड ऑक्सीजन प्लांट किसी भी तरह की इमरजेंसी के लिए स्टैंडबाय रहेगा। इस प्लांट से आइसीयू व सीसीयू सहित ऑपरेशन थियेटर जुड़े हुए हैं। इसलिए ऐहतियात के चलते मुख्य प्लांट के साथ सिलेंडर प्लांट से भी जोड़ा रखा जाएगा। वहीं कुछ स्थानों पर सिस्टम लगाते हुए जंक्शन भी लगाए गए हैं। जिन्हें सिलेंडर से जोड़ा गया है।
दो बार कर चुके हैं ट्रॉयल
अस्पताल में सेंट्रल ऑक्सीजन प्लांट बनकर तैयार हो चुका है। इसका दो बार ट्रॉयल भी कर चुके हैं। प्लांट का उद्घाटन भी जल्दी हो जाएगा, तैयारी चल रही है।
डॉ. आरके आसेरी, प्रिंसिपल राजकीय मेडिकल कॉलेज बाड़मेर

Mahendra Trivedi Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned