चौहटन. दुबई में चौहटन मठ महंत जगदीशपुरी के सान्निध्य में डूंगरीपुरी महाराज व वांकलमाता के भजनों की सरिता बही। इस अवसर पर महंत जगदीशपुरी व शिष्य देवपुरी की उपस्थिति में धर्मसभा हुई जिसमें धर्ममार्ग पर चलकर ईश्वर की आराधना करने की बात कही।

महंत जगदीशपुरी शिष्य देवपुरी के साथ 29 नवम्बर की शाम दुबई पहुचें। दो दिसम्बर को आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि धर्म-कर्म में खर्च किया गया धन वास्तव में सदुपयोग में लगता है। प्रवासी राजस्थानी अपने गांव और क्षेत्र में धर्म, शिक्षा और स्वास्थ्य क्षेत्र में धन का सदुपयोग करें। उन्होंने धर्म के मार्ग पर चलने और विदेश में भी संस्कृति को बनाए रखने की बात कही।

गौतलब है कि दुबई में हजारों की तादाद में बाड़मेर, जैसलमेर सहित मारवाड़ और राजस्थान के लोग रह रहे हैं। वे वहां सालों से कारोबार कर रहे हैं।वहां भी भारतीय संस्कृति को जिंदा रखे हुए हैं। इसी के चलते उन्होंने चौहटन मठ के जगदीशपुरी को वहां आमंत्रित किया। जगदीशपुरी पिछले कुछ दिन से वहां लोगों को प्रवचन देकर धर्म मार्ग पर चलने की सीख दे रहे हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned