बीड़ी की चिंगारी से बस में लगी आग, मां-बेटी जिंदा जली

एसएच-28 पर खेड़ गांव के पास हुआ हादसा

By: Dilip dave

Published: 12 Nov 2017, 06:34 PM IST

 

 

बालोतरा. बाड़मेर मार्ग पर खेड़ गांव के पास रविवार सुबह रोडवेज की स्लिपर कोच बस में अचानक आग लगने से मां-बेटी की जिंदा जल गई। वहीं चालक व परिचालक ने बस से 13 जनों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया। तीन दमकलों ने एक घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। आग से बस जलकर राख हो गई। आग लगने से मौके पर कोहराम मच गया। बताया जा रहा है कि बीड़ी की चिंगारी से आग लगी। सूचना पर एसडीएम, एएसपी समेत आला अधिकारी मौके पर पहुंचे तथा घटनाक्रम की जानकारी ली।
खेड़ गांव के पास रविवार सुबह 5 बजे जयपुर से बाड़मेर जा रही रोडवेज बस के पिछले हिस्से से दुर्गंध आने पर चालक ने बस को सड़क किनारे रोक दिया। इस दरम्यान सीटों में आग लग गई। चालक व परिचालक ने बस में सो रहे यात्रियों को जगा आनन-फानन में बाहर निकालना शुरू किया। बस में सवार 15 यात्रियों में से 13 को चालक भवानी सिंह व परिचालक जसवंत कुमार जांणी ने साहस दिखाते हुए बाहर निकाल दिया। वहीं ऊपर के स्लीपर में सो रही एक महिला व ढाई साल की एक मासूम बच्ची को आग से चारों ओर से घेर लिया। इससे नागौर के थांवला थाना क्षेत्र के रावतखेड़ा निवासी काव्या (ढाई साल) पुत्री अजीतसिंह व रेखा (33) पत्नी अजीत सिंह की मौके पर जिंदा जलने से मौत दर्दनाक हो गई। इस महिला व बच्ची को निकालने के चक्कर में चालक व परिचालक भी मामूली झुलस गए। डीजल टैंक फटने के बाद आग और अधिक भभक गई। बस में दम घुटने पर चालक व परिचालक जैसे-तैसे बाहर निकले। कुछ दूरी पर दोनों बेहोश होकर गिर गए। मौके पर मौजूद लोगों ने दोनों को संभाला। काफी देर बाद दोनों होश में आए। आग की सूचना पर नगर परिषद व सीईटीपी की 3 दमकलों ने करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। सूचना पर वृत्ताधिकारी राजेश माथुर, बालोतरा थानाधिकारी भंवरलाल सीरवी, पचपदरा थानाधिकारी देवेन्द्रसिंह कविया मय जाप्ता भी मौके पर पहुंचे। इन्होंने यात्रियों को रोडवेज की हिसार से बाड़मेर जाने वाली बस में बिठाया। जानकारी पर 5:45 बजे एसडीएम भागीरथ चौधरी, एएसपी कैलाशदान रतनू भी मौके पर पहुंचे तथा चालक-परिचालक से घटना से जानकारी ली। रोडवेज प्रबंधक बीरमाराम बेड़ा, यातायात प्रबंधक गणपत सोलंकी समेत अधिकारी मौके पर पहुंचे। मेडिकल टीम ने मौके पर दोनों शवों का पोस्टमार्टम कर परिजनों को सौंप दिए। घटना के संबंध में रोडवेज चालक ने पचपदरा थाने में मामला दर्ज करवाया।

मचा कोहराम- बस में अचानक आग लगने से मौके पर कोहराम मच गया। परिचालक व चालक ने सो रहे यात्रियों को जैसे ही बस में आग लगने की जानकारी देकर उठाया तो कोहराम मच गया। कई महिलाएं चिल्लाने लगी, मृ़तक महिला के साथ एक युवती मदद के लिए रोती रही, लेकिन तब तक आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। दूसरी बस में शिफ्ट करने के बाद यात्री सहमे दिखे। कुछ समय बाद महिला का पति भी बायतु से मौके पर पहुंच गया। मृतक महिला का पति अजीतसिंह बायतु क्षेत्र के एक विद्यालय में शिक्षक है।

Dilip dave Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned