प्रेम से पुलों का निर्माण, द्वेष से बनती है दीवारें

- रामदेरिया में मंदिर प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव में उमड़े श्रद्धालु

बाड़मेर. शिव बाबा रामदेव अवतार धाम रामदेरिया में नव निर्मित मंदिर प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव में चल रही शिव महापुराण के छठे दिन संत कृपाराम महाराज ने कहा कि तन से घमण्ड बेकार है। एक दिन यह तो राख बनने वाला है। तन के अहंकार से पतन होता है।

उन्होंने कहा की शादी के समय घर नहीं वर देखना चाहिए। पुरुष में गुण व संस्कार देख कर बेटी का विवाह करना चाहिए। प्रेम व द्वेष में बराबर ढाई अक्षर होते हैं। वहीं प्रेम से पुलों का निर्माण होता है और द्वेष से दो घरों के बीच दीवारों का निर्माण हो जाता है। इस लिए परिवार में हमेशा प्रेम से रहना चाहिए।

बाबा रामदेव लीलामृत कथा में युवाचार्य संत अभयदास महाराज ने पूंगल के परिहारों को चमत्कार व रतना परचे की कथा का वाचन किया। उन्होंने ने रामदेवजी विवाह वृतांत से पहले बताया कि जब रतना राईका सुगना बाई को विवाह की पत्रिका देने पंूगलगढ गया तो वहां राजा ने रतना को जेल में डाल दिया।

साथ ही सुगना बाई को रूणिचा भेजने से मना कर दिया। रतना राईका ने रामदेवजी को याद किया तो बाबा रामदेवजी सशस्त्र पूंगलगढ़ पहुंच गए। बाबा के चमत्कार को देख पूंगलगढ़ के राजा ने सुगना बाई को रूणिचा भेज दिया।

मंगलवार रात को हुए जागरण में भजन गायक प्रकाश माली एंड पार्टी बालोतरा व सोनू सिसोदिया उदयपुर सिटी एंड पार्टी ने भजनों की प्रस्तुतियां दी।

छठे दिन भोजन प्रसादी नंदकुमार पुत्र सोनाराम बेरड़ झाख व सुजानाराम पुत्र रामूराम बिश्नोई धोरीमन्ना की ओर से रही। कथा में परेउ मठाधीश ओंकार भारती, भिंयाड़ मठाधीश मगनपुरी, सैनाचार्य अचलानंद गिरी जोधपुर, खुशालगिरी गंगागिरी मठ बाड़मेर, रामप्रताप व रामविचार जोधपुर का स्वागत किया।

और इधर...

संत के बताए मार्ग पर चल करें समाजसेवा

संत मुल्तानमल की बारहवीं पुण्य तिथि मनाई

बाड़मेर. जसोल जैन पारस भवन सेवा समिति जसोल के तत्वावधान में मुनि मुल्तानमल स्वामी की बारहवीं पुण्यतिथि मंगलवार को मनाई गई। मुख्य अतिथि जसोल सरपंच जालमसिंह राठौड़, विशिष्ठ अतिथि ओमप्रकाश वैदमेहता, पुखराज बालड़, समिति अध्यक्ष मूलचंद सालेचा दीप प्रज्ज्वलन कर शुभारंभ किया।

स्वागत गीत सुरेश डोसी व स्वागत भाषण समिति अध्यक्ष मूलचंद सालेचा ने दिया। समिति के मंत्री महेंद्र भुतानी ने बताया कि लाभार्थी परिवार का बहुमान किया गया। आजीवन भोजनशाला समिति के दानदाताओं का सम्मान किया गया।

इस अवसर पर सभापति सुमित्रादेवी वैद मेहता, उप सभापति हेमलता माली , ओसवाल समाज बालोतरा अध्यक्ष रूपचंद सालेचा का जसोल जैन पारस भवन सेवा समिति ने बहुमान किया।

शांतिलाल डागा, हीरालाल चौपड़ा, शांतिलाल शांत, ओमप्रकाश बांठिया, ओमप्रकाश वैदमेहता, अणदाराम चौधरी आदि ने मुनि मुलतानमल स्वामी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए उनके बताए मार्ग पर चलने का आह्वान किया। समिति उपाध्यक्ष शंकरलाल भंसाली ने आभार ज्ञापित व संचालन समिति सदस्य कांतीलाल ढेलडिय़ा ने किया।

Show More
Moola Ram
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned