सड़क पर निर्माण सामग्री के ढ़ेर, नगर परिषद बेफ्रिक

सड़क पर निर्माण सामग्री के ढ़ेर, नगर परिषद बेफ्रिक

Dileep Kumar Dave | Publish: Dec, 08 2018 11:55:00 PM (IST) Barmer, Barmer, Rajasthan, India

- लोगों को आवागमन में हो रही परेशानी
- जिम्मेदार नही देते ध्यान

 

 

बालोतरा.
नगर में भवन निर्माणकर्ताओं का मनमाना रवैया लोगों के लिए परेशानी बना हुआ है। इनके स्वयं की सुविधा को लेकर सड़क पर भवन निर्माण सामग्री डलवाने पर हर दिन आवागमन में लोगों को परेशानी होती है। रात्रि के अंधेरे में दिखाई नहीं देने पर इससे टकरा कई जने चोटिल, घायल होते हैं। परेशान व जागरूक लोगों के नगर परिषद प्रशासन को समस्या से अवगत करवाने व अधिकारियों के कोई कार्रवाई नहीं करने से इनमें रोष है।

नगर में जगह-जगह भवन निर्माण तो मरम्मत के कार्य कर चल रहे हैं। ऐसी कोई मोहल्ला या गली नहीं है, जहां कार्य नहीं चल रहा है। अधिकांश जनों ने स्वयं की सुविधा के अनुसार निर्माण सामग्री डलवा रखी है। भवन निर्माण कार्य में ईंट,पत्थर, चीण, बजरी, लोहा सरिया आदि की जरूरत पर भवन मालिक बार-बार लाने के चक्कर से बचने के लिए एक मुश्त खरीदते हैं। घर के आगे या इसके पास से गुजरने वाली सड़क पर डालते हैं। कई जने तो सड़क के बीचोंबीच सामग्री डालते हंै। इससे सड़क से आवागमन पूरा ही बंद हो जाता है। इसके अलावा सड़क के बीच डाली निर्माण सामग्री पर आवागमन में राहगीरों, वाहन चालकों को परेशानी उठानी पड़ती है। रात्रि के अंधेरे पर सड़क पर रखी निर्माण सामग्री दिखाई नहीं देती है। इस पर कई वाहन चालक इससे टकराकर चोटिल, घायल होते हंै। शहर में जगह-जगह सड़कों पर भारी मात्रा में पड़ी निर्माण सामग्री पर हर दिन हजारों जने परेशान होते हैं। इससे परेशान कई लोग नगर परिषद को समस्या से अवगत करवा कार्रवाई की मांग कर चुके हैं, लेकिन किसी स्तर पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। इससे आमजन की परेशानियां कम होने की बजाए बढ़ती ही जा रही है। इससे आमजन में रोष है।
हर दिन होती परेशानी - नगर में जगह-जगह सड़क पर भवन निर्माण सामग्री पड़ी है। इस पर आवागमन में हर दिन बड़ी परेशानी उठानी पड़ती है, लेकिन कहीं कोई सुनवाई नहीं की जा रही है। - ओमप्रकाश गहलोत, शहरवासी

हो रहे हादसे- शहर के भवन निर्माणकर्ता के मनमाने रवैये से हर दिन हजारों जनों को परेशानी उठानी पड़ती है। रात्रि के अंधेरे में निर्माण सामग्री दिखाई नहीं देने पर हादसे होते हैं। परिषद कार्रवाई करें। - मनीष खंडेलवाल

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned