script'Cases are settled in National Lok Adalat by resignation' | ‘राजीनामे से राष्ट्रीय लोक अदालत में निपटाए जाते हैं मामले’ | Patrika News

‘राजीनामे से राष्ट्रीय लोक अदालत में निपटाए जाते हैं मामले’

अम्बेडकर पार्क में विधिक जागरूकता शिविर का आयोजन

बाड़मेर

Updated: December 22, 2021 01:06:24 am

बाड़मेर. तालुका विधिक सेवा समिति अपर जिला एवं सेशन न्यायालय संख्या एक बाड़मेर के कार्यभारी अध्यक्ष नरेन्द्र कुमार न्यायाधीश विशिष्ठ अनु.जाति एवं जनजाति अनिप बाड़मेर ने मंगलवार को अम्बेडकर पार्क पर विधिक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया।
‘राजीनामे से राष्ट्रीय लोक अदालत में निपटाए जाते हैं मामले’
‘राजीनामे से राष्ट्रीय लोक अदालत में निपटाए जाते हैं मामले’
इस मौके पर अधिवक्ता मुकेश जैन, नवल किशोर लीलावत, राजकीय महाविद्यालय के व्याख्याता एवं राष्ट्रीय सेवा योजना के प्रभारी सोहनलाल परमार, सह प्रभारी बाबूलाल मेघवाल एवं पीएलवी भीयाराम उपस्थित रहे। विधिक जागरूकता शिविर के दौरान न्यायाधीश नरेन्द्र कुमार ने राष्ट्रीय सेवा योजना से जुड़े महाविद्यालय के छात्रों को नि:शुल्क विधिक सहायता के बारे में जानकारी प्रदान करते हुए बताया कि जिनकी आय डेढ़ लाख रुपए से कम है तथा अनुण्जाति व जनजाति के हैं या महिलाएं जो अपनी न्यायालय में पैरवी के लिए अधिवक्ता का खर्चा वहन नहीं कर सकते उनकी पैरवी के लिए विधिक सहायता के तहत प्राधिकरण की ओर से नि:शुल्क अधिवक्ता नियुक्त किया जाता है।
यदि किसी महिला या बच्ची के साथ बलात्कार जैसी घृणित घटना घटित होती है, किसी दुर्घटना में किसी व्यक्ति की असामयिक मृत्यु होने या उसकी 40 से 80 प्रतिशत शारीरिक विकलंागता होने पर प्राधिकरण की ओर से संचालित राजस्थान पीडि़त प्रतिकर स्कीम 2011 के तहत सहायता राशि प्रदान की जाती है। बैंक, बीमा कम्पनी, बीएसएनएलए आदि के प्रि.लिटिगेशन के मामले जिनको न्यायालय में ले जाने से पूर्व राजीनामे के माध्यम से राष्ट्रीय लोक अदालत में निपटाया जाता है, इसके साथ ही न्यायालयों में लंबित राजीनामा योग्य दीवानी व फौजदारी, मोटरव्हीकल प्रकरणों का भी राष्ट्रीय लोक अदालत में पक्षकारान के मध्य राजीनामा के माध्यम से निपटारा करवाया जाता है। उन्होंने कहा कि न्यायालयों में लंबित पारिवारिक मामलों को मध्यस्थता के माध्यम से इस प्राधिकरण की ओर से एडीआर भवन में मीडियेटर अधिवक्ताओं के माध्यम से समझाइश कर वैवाहिक जीवन को पारस्परिक बिखराव होने से बचाए जाने का प्रयास किया जाता है।
उन्होंने विभिन्न कानूनी प्रक्रियाओं की जानकारी देते हुए प्राधिकरण की ओर से किए जा रहे कार्यों से अवगत करवाया। वरिष्ठ अधिवक्ता मुकेश जैन ने महिलाओं के अधिकारों के प्रति कानून जानकारी के बारे में बताया। पैनल अधिवक्ता नवल किशोर लीलावत ने नि:शुल्क विधिक सहायता के बारे में जानकारी प्रदान की। पैनल अधिवक्ता नवल किशोर लीलावत ने आभार व्यक्त किया।
राजकीय महाविद्यालय बाड़मेर के राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयं सेवक, राजकीय अम्बेडकर छात्रावास के छात्र तथा स्थानीय लोग उपस्थित रहे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.