कलक्टर की रिपोर्ट पर कोरोना से अनाथ हुए बच्चों को मिलेगी सहायता

- सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के माध्यम से होंगे आवेदन

By: भवानी सिंह

Published: 03 Jul 2021, 05:23 PM IST

बाड़मेर.
कोरोना महामारी से अनाथ हुए बच्चों और पति खोने वाली विधवा महिलाओं को राज्य सरकार की ओर से आर्थिक, सामाजिक एवं शैक्षणिक संबल प्रदान करवाएगी। कोरोना से मौत हुई या नहीं इसके लिए जिला कलक्टर की रिपोर्ट के बाद प्रमाणित माना जाएगा। राज्य सरकार ने आर्थिक सहायता दिलाने के लिए गाइडलाइन जारी कर सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के माध्यम से जानकारी मांगी है।


योजना के तहत कोरोना बीमारी से हुई मौत के प्रमाणन के लिए जिला कलक्टर को अधिकृत किया गया है। कलक्टर की ओर से सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के जिलाधिकारी, सहायक निदेशक, बाल अधिकारिता विभाग व मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी की सूची तैयार करने में मदद ले सकेंगे।
---
यों मिलगी आर्थिक सहायता
- अनाथ बच्चों को तत्काल 1 लाख का अनुदान।
- 18 वर्ष तक मासिक 2500 रुपए।
- 18 वर्ष पूरा होने पर 5 लाख की सहायता।
- 12 वीं तक निशुल्क शिक्षा।
- कॉलेज छात्राओं को विभाग के छात्रावासों में प्राथमिकता से प्रवेश।
- विधवाओं को 1 लाख रुपए का एक मुश्त एक्सग्रेसिया।
---
ये होंगे योजना के पात्र
- कलक्टर की ओर से प्रमाण के आधार पर कोरोना से मौत के मामले में अनाथ बालक या बालिका तथा विधवा महिला एवं उनके बच्चे अनुदान, आर्थिक व अन्य सहायता के पात्र होंगे। वर्णित अनुदान, आर्थिक सहायता के अलावा केंद्र व राज्य सरकार की अन्य योजनाओं के तहत लाभ के पात्र हो सकेंगे।
- पालनहार योजना के तहत आर्थिक सहायता के पात्र नहीं होंगे। पालनहार योजना में वस्त्र, पाठ्य पुस्तकें आदि के लिए दी जाने वाली राशि दो हजार रुपए प्रतिवर्ष एक मुश्त दी जाएगी। विधवा महिला कोरोना विधवा पेंशन के अलावा सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना की पात्र नहीं होगी।
- राजस्थान राज्य के मूल निवासी हों या कम से कम 3 वर्ष से राज्य में निवासरत हों, वे पात्र होंगे। परिवार द्वारा कोरोना योद्धा योजना का लाभ लेने की स्थिति में पात्र नहीं होंगे। मृतक माता या पिता व विधवा के पति के राजकीय सेवा या राजकीय उपक्रम के स्थाई कार्मिक होने की स्थिति में वे राज्य योजना के लाभ के पात्र नहीं होंगे।
- आंगनबाड़ी केंद्र या स्कूल में जाना आवश्यक होगा। विधवा महिला की कोरोना विधवा पेंशन स्वयं की राजकीय सेवा में नियुक्ति होने पर तथा पुनर्विवाह करने पर निरस्त की जा सकेगी। कोरोना से हुई विधवा महिला के लिए अधिकतम आय व आयु की सीमा निर्धारित नहीं है।
---
- आवेदन प्रक्रिया शुरू की गई है
मुख्यमंत्री कोरोना सहायता योजना के तहत आवेदन प्रक्रिया शुरू हो गई है। योजना में पात्र रखने वाले सभी लाभार्थियों के आवेदन जमा कर नियमानुसार लाभ दिलाया जाएगा। पुखराज चौधरी, निदेशक, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग, बाड़मेर
---

भवानी सिंह Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned