मकान के अधूरे सपने के साथ संसार से विदा हुई पानी

प्रधानमंत्री आवास योजना में चयन व स्वीकृति पर अधेड़ बेवा पानी देवी दर्जी ने इस उम्मीद से मकान का निर्माण शुरू करवाया

By: Moola Ram

Published: 11 Nov 2017, 07:17 PM IST

बालोतरा(बाड़मेर). प्रधानमंत्री आवास योजना में चयन व स्वीकृति पर अधेड़ बेवा पानी देवी दर्जी ने इस उम्मीद से मकान का निर्माण शुरू करवाया कि वह अपने बेटे के साथ आराम से जीवन बसर करेगी। आठ माह पहले उसने मकान का निर्माण शुरू करवा दिया पर प्रशासन ने उसे एक पैसा भी जारी नहीं किया। ग्राम सेवक से विकास अधिकारी व जिला कलक्टर तक उसने गुहार लगाई। लेकिन हरेक ने उसे आश्वासन ही दिया। स्वयं की मामूली बचत का पैसा खर्च होने, सिर पर चढ़ी उधारी की चिंता व परेशानी में डूबी इस महिला ने मकान बनाने की अधूरी इच्छा के साथ करीब बीस दिन पहले दम तोड़ा। इसके साथ ही रंतौधी रोग ग्रस्त उसके बेटे के सामने बड़ी दिक्कत खड़ी हो गई है।

ग्राम पंचायत खेजडिय़ाली के गांव पातों का बाड़ा निवासी पानी देवी पत्नी शेषमल दर्जी ने स्वयं की बचत के पैसे व परिचितों से उधार लेकर इस उम्मीद से मकान का निर्माण शुरू करवाया कि कुछ समय बाद सरकार उसे योजना के पैसे उपलब्ध करवाएगी। मकान का ढांचा तैयार होने पर उसने ग्राम पंचायत व पंचायत समिति के कई बार चक्कर लगाए। करीब दो माह पूर्व ग्राम पंचायत अजीत में रात्रि चौपाल में उसने जिला कलक्टर से फरियाद की। उन्होंने ग्राम सेवक व पंचायत प्रसार अधिकारी को तत्काल योजना की बकाया दोनों किश्तों का पैसा बैंक खाते में जमा करवाने का निर्देश दिया। लेकिन बैंक खाते में एक नया पैसा जमा नहीं हुआ। इससे परेशान व चिंतित महिला ने अधूरी इच्छा के साथ २१ अक्टूबर को दम तोड़ा।

बेटा रंतौधीग्रस्त, पैरवी करे तो कौन

पानी देवी के पुत्र चन्द्रप्रकाश को रंतौधी रोग होने पर उसे दिन के उजाले में भी सही नहीं दिखाई देता है। मां व बेटा साथ में जीवन बसर करते थे। योजना में मिलने वाले १ लाख ४८ हजार रुपए में से उसे अभी तक एक नया पैसा नहीं मिला है। गांव से ग्राम पंचायत करीब ७ किमी व पंचायत समिति १६ किमी है। ऐसे में मां के संसार छोड़ चले जाने पर पहले से परेशान चन्द्रप्रकाश की मुश्किलें ओर बढ़ गई है।

मां ने स्वयं की बचत के पैसे व उधार रुपए लाकर मकान शुरू करवाया। योजना के पैसे के लिए ग्राम पंचायत, विकास अधिकारी व कलक्टर तक गुहार की। कहीं कोई सुनवाई नहीं हो रही है। अब दिक्कतें और बढ़ गई है।

- चन्द्रप्रकाश दर्जी, पुत्र

विकास अधिकारी से पता करवाता हूं। योजना में चयन होने के बाद अगर पैसा नहीं दिया गया है तो उसे शीघ्र दिलवाएंगे। दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे। - शिवप्रसाद एम. नकाते, जिला कलक्टर बाड़मेर
मैं अभी बैठक में हूं, कुछ समय बाद बात करूंगा।

- अतुल सोलंकी, विकास अधिकारी समदड़ी

Moola Ram
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned