सड़क खस्ताहाल, निकले नुकीले पत्थर

- कोटड़ा ग्राम पंचायत के रामपुरा जाने वाली सड़क से गुजरना मुश्किल

By: Mahendra Trivedi

Published: 19 Jan 2019, 04:09 PM IST

शिव. ग्राम पंचायत कोटड़ा के राजस्व गांव रामपुरा जाने वाली सड़क पर पैदल चलना भी मुश्किल हो रहा है। ग्रामीण पन्नाराम मेघवाल का कहना है कि गांव को जोडऩे के लिए 10 वर्ष पूर्व शिव से हरसानी जाने वाले स्टेट हाइवे से सड़क का निर्माण हुआ था।

इसके बाद मरम्मत नहीं होने से इन दिनों यह कंक्रीट में तब्दील हो गई है। कई जगह नुकीले पत्थरों की वजह से वाहनों चलना मुश्किल है, डामर का तो नामोनिशान ही मिट गया है। ऐसे में ग्रामीणों को मजबूरन सड़क के किनारे कच्चा रास्ता बनाना पड़ रहा है।

उन्होंने कई बार संबंधित जिम्मेदारों व प्रशासनिक अधिकारियों को अवगत करवाया, लेकिन समस्या का समाधान नहीं हुआ। इस रास्ते चलने के लिए वाहन चालक अतिरिक्त किराया मांग रहे हैं। वहीं आपातकालीन सेवाओं के लिए कई किलोमीटर चक्कर लगाना पड़ता है।

ये भी पढ़े...

दलित दम्पती को पांच साल बाद जारी हुई वृद्धावस्था पेंशन

धोरीमन्ना. पिछले पांच साल से पेंशन के इंतजार कर रहे एक दम्पती को आखिरकार पेंशन जारी करने के आदेश मिल ही गए। गौरतलब है कि लूखू ग्राम पंचायत के राजस्व गांव अम्बेडकर नगर निवासी दलित दम्पती पिछले पांच साल से वृद्धावस्था पेंशन के लिए दर-दर की ठोकरे खा रहे थे।

राजस्थान पत्रिका ने बुधवार को पेंशन के लिए पति-पत्नी दर-दर की ठोकर खाने को मजबूर शीर्षक से खबर प्रकाशित की थी, जिस पर धोरीमन्ना विकास अधिकारी नरेंद्र साउ ने संज्ञान लेते हुए गुरुवार को दलित दम्पती को पंचायत समिति बुलाकर कार्मिकों के माध्यम से दस्तावेज तैयार करवाए। उन्होंने भलाराम मेघवाल व उनकी पत्नी पुरोंदेवी की पेंशन जारी करवा राहत दी।

सभी का आभार-

मेरी व पत्नी की वृद्धावस्था पेंशन पांच साल तक प्रयास करने के बाद अब स्वीकृत हुई है। हमारा सहयोग करने के लिए सभी का आभार।

-भलाराम मेघवाल, लुखु

Mahendra Trivedi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned