जिला मुख्यालय से दूरी ज्यादा, परिवादी, गवाह और आमजन को होती दिक्कत, कहां पढि़ए पूरा समाचार

- अधिक दूरी व साधनों का अभाव

By: Dilip dave

Published: 10 Feb 2018, 09:35 PM IST

बालोतरा की पीड़ा, बाड़मेर में समाधान, आमजन परेशान



 

बालोतरा. क्षेत्र की समस्याएं जैसी है, जिनका समाधान जिला मुख्यालय से होता है। एेसे में हर पीडि़त को वहां जाना पड़ता है, यह पीड़ा उनके लिए दुविधा बनी हुई है। जिला स्तरीय जनसुनवाई हो या फिर न्यायालयों में गवाह और परिवादियों की उपस्थिति, इसमें दूरी लोगों की दूसरी पीड़ा बन गई है। कई वादी-परिवादी समय पर नहीं पहुंच पाते। वहीं, कई जने तो दूरी के चलते वहां जाने में भी आनाकानी करते हैं।

जिला सीमा के गांवों से जिला मुख्यालय बाड़मेर की दूरी 160 से 180 किलोमीटर होने पर आमजन परेशान है। स्थिति यह है कि साधनों के अभाव में आमजन अपनी समस्या को लेकर बाड़मेर नहीं पहुंच पाता। वहीं, कार्य की अधिक व्यस्तता पर जिला कलक्टर व जिला स्तरीय अधिकारी सीमांत गांवों तक पहुंच आमजन की समस्याएं सुन व समाधान नहीं कर पाते हैं। इस स्थिति से आमजन परेशान है।

परिवादियों की भी पीड़ा- बाल अपचारी एक्ट, पोक्सो एक्ट, विद्युत अधिनियम एक्ट में दर्ज मामले बालोतरा व क्षेत्र के सिवाना, पचपदरा, समदड़ी, कल्याणपुर, मण्डली पुलिस थाने में दर्ज होते हैं। इन सब एक्ट में दर्ज मामलों की सुनवाई जिला मुख्यालय स्थिति विशिष्ट न्यायालय में होती है। किराया अधिकरण अपीलों की सुनवाई भी बाड़मेर विशिष्ट न्यायालय में होती है। इस पर सुनवाई से न्याय पाने तक को लेकर परिवादियों व अभियुक्तों को बाड़मेर मुख्यालय पहुंचना पड़ता है। गवाहों के बयान के लिए उन्हें बाड़मेर ले जाना होता है। वर्ष में शहर बालोतरा व क्षेत्र के विभिन्न पुलिस थानों में इन अधिनियमों के कई मामले दर्ज होते हैं। इस पर लंबे समय से शहर व क्षेत्र के लोगों की मांग है कि बालोतरा को जिला बनाया जाए।
बालोतरा को बनाएं जिला-

बालोतरा व क्षेत्र के पुलिस थानों में बाल अपचारी एक्ट, पोक्सो एक्ट, विद्युत अधिनियम एक्ट में दर्ज मामलों की सुनवाई बाड़मेर विशिष्ट न्यायालय में होती है। क्षेत्र से जिला मुख्यालय की अधिक दूरी व साधनों के अभाव में परिवादियों को परेशानियां उठानी पड़ती है। इस पर सरकार बालोतरा को जिला बनाएं।-
उमरदीन मेहर अधिवक्ता

आमजन परेशान- शहर व क्षेत्र से जिला मुख्यालय की अधिक दूरी से आमजन परेशान है। समस्या होने के बावजूद आमजन जिला मुख्यालय पहुंच नहीं पाता। कार्य की व्यस्तता पर अधिकारी क्षेत्र में कम आते हैं। सरकार क्षेत्र के विकास के लिए बालोतरा को जिला बनाएं।
पारस सुथार

Dilip dave Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned