जिला स्तरीय जनसुनवाई में फरियादियों ने सुनाई पीड़ा

बाड़मेर. जिला स्तरीय जनसुनवाई में जन समस्याओं का समाधान नहीं होने से नाराज जनता ने अब अधिकारियों को आंदोलन की चेतावनी ही दे डाली।

By: Moola Ram

Published: 10 Nov 2017, 05:00 PM IST

 

बाड़मेर. जिला स्तरीय जनसुनवाई में जन समस्याओं का समाधान नहीं होने से नाराज जनता ने अब अधिकारियों को आंदोलन की चेतावनी ही दे डाली। गुरुवार को एक तरफ मोटर मैकेनिक एसोसिएशन ने दस बार ज्ञापन देने पर भी कार्रवाई नहीं होने पर नाराजगी जताई तो कई जने दो-चार बार प्रार्थना पत्र देने पर भी कार्रवाई नहीं होने से नाराज दिखे। वहीं जनसुनवाई में लोगों की संख्या भी कम नजर आई। जनसुनवाई के दौरान मोटर मैकेनिक एसोसिएशन बाड़मेर के जिलाध्यक्ष नरपतसिंह मौसेरी तथा गैरेज व ऑटो मोबाइल्स से जुड़े लोगों ने जिला स्तरीय जनसुनवाई में एक बार फिर से ज्ञापन देकर अपनी मांग सरकार के सामने रखी। उन्होंने कहा कि एसोसिएशन के सभी कार्मिकों ने पूर्व में भी जिला स्तरीय जनसुनवाई में दस बार ज्ञापन सौंप चुके हैं। अभी तक सरकार ने भूमि आवंटित करने की मांग पूरी नही की हैं। ज्ञापन में बताया कि दस दिन में सरकार ने निस्तारण नहीं किया तो एसोसिएशन के 325 गैराज व 130 ऑटो मोबाइल्स की सभी दुकानें एक साथ बन्द करके विरोध प्रदर्शन करेंगे। अध्यक्ष ने बताया कि इनसे जुड़े पांच हजार मजदूर भी इस हड़ताल में शामिल होंगे। उन्होंने बताया कि इस व्यवसाय से जुड़ी दुकानें शहर के सिणधरी रोड़, जैसलमेर रोड, इंडस्ट्रीयल एरिया, सुभाष चौक, शहीद सर्किल, कुर्जा फांटा आदि क्षेत्र में हैं। सभी दुकानें किसी एक जगह पर व्यवस्थित होने पर सभी मिस्त्री, कार्मिक आसानी से काम कर पाएंगे। शहर में ट्रांसपोर्ट नगर की आवश्यकता है, लेकिन जनप्रतिनिधि व प्रशासन ध्यान नहीं दे रहे हैं।

कलक्टर का आदेश नहीं मान रहे अधिकारी
जनसुनवाई के दौरान धोरीमन्ना के बाशिंदे ने बताया कि धोरीमन्ना तहसील कार्यालय
के पीछे बन रही सड़क उसके खेत में 25 फीट की जगह ज्यादा बन रही है। इसको लेकर तीन-चार कलक्टर की जनसुनवाई में बताया, लेकिन धोरीमन्ना के स्थानीय प्रशासनिक अधिकारी, सार्वजनिक निर्माण विभाग व
संबंधित ठेकेदार ध्यान नहीं दे रहे।

गोचर पर अतिक्रमण, नहीं सुनवाई

हापों की ढाणी चूली निवासी एक जने ने बताया कि गांव की गोचर भूमि पर दो-तीन जनों ने अतिक्रमण किया है। इससे यह कीमती जमीन अतिक्रमण की भेंट चढ़ गई है। कलक्टर के निर्देश पर भी स्थानीय अधिकारी सुनवाई नहीं कर रहे।
बार-बार शिकायत निस्तारण नहीं

प्रेमचंद निवासी सेतराउ ने बताया कि गांव में पंचायत, आबादी व गोचर भूमि पर अतिक्रमण हो रहे हैं। बार-बार शिकायत के बावजूद कार्रवाई नहीं हो रही।
बार-बार आ रहा हूं

जनसुनवाई में आए बुजुर्ग हीरालाल ने बताया कि वे पच्चीस-तीस बार जनसुनवाई में आ चुके हैं, जो भी समस्या लेकर आते हैं उसका समाधान नहीं हो रहा। नगरपरिषद से पट्टा जारी करवाने की मांग हो या फिर सफाई व्यवस्था की, आश्वासन हीं मिल रहा।

ये मुद्दे भी आए- जनसुनवाई में पहुंचे देदूसर निवासी टाभाराम व गुमाने का तला निवासी दिनेशकुमार ने बीजराड़ थाने में दर्ज प्रकरण में एससी, एसटी एक्ट के तहत देय राशि दिलवाने, गुमाने का तला निवासी श्रवणकुमार ने खेत की नेखमबंदी करवाने, बालोतरा निवासी डूंगरसिंह ने खेत का सीमा ज्ञान करवाने की मांग की।
गंदे पानी की समस्या- भील समाज छात्रावास के विद्यार्थियों ने शहर का गंदा पानी नगरपरिषद टैंकरों से छात्रावास के पास खाली करने का आरोप लगाते हुए इसका समाधान करने की मांग की। उन्होंने बताया कि इसके चलते गंदगी व बदबू के चलते विद्यार्थियों को पढऩे में दिक्कत हो रही है।

धमाकों से मकानों में दरारें- एमपीटी ऑयल फिल्ड के ऐश्वर्या साइट व आसपास केयर्न कम्पनी के तेल उत्खनन कार्य के चलते हो रहे धमाकों से रहवासी ढाणियों व घरों को नुकसान होने का जिक्र करते हुए ग्रामीणों ने उचित कार्रवाई की मांग की।

Moola Ram
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned