scriptFarmers crop claim was not received | दूसरी सीजन की बुवाई शुरू, गत साल के क्लेम पर कुण्डली! आखिर ऐसा क्यों? जानिए पूरी खबर | Patrika News

दूसरी सीजन की बुवाई शुरू, गत साल के क्लेम पर कुण्डली! आखिर ऐसा क्यों? जानिए पूरी खबर

- गत साल का फसल बीमा क्लेम अटका, एक दिन पहले नोटिफिकेशन हुआ जारी, वर्ष- 2017-18 का मामला

 

बाड़मेर

Published: July 19, 2019 05:41:03 pm

बाड़मेर.
किसानों की हितैषी बनने वाली सरकार महज कागजी घोड़े दौड़ाती नजर आ रही है। खरीफ फसल की बुवाई शुरू हुए एक माह का समय बीत गया है, लेकिन वर्ष 2017-18 की खरीफ फसल बीमा क्लेम की 1035 करोड़ बीमा राशि का किसान इंतजार कर रहे हैं। इतना ही नहीं राज्य सरकार की ओर से प्रीमियम हिस्सा राशि 378.79 करोड़ रुपए भी जमा करवा दिए। इसके बावजूद किसानों के खातों में क्लेम राशि नहीं मिल पाई है।
Farmers crop claim was not received
Farmers crop claim was not received
 

असमंजस में केन्द्र सरकार का निर्णय
फसल बीमा क्लेम को लेकर कंपनी व सरकार के बीच असमंजस की स्थिति होने पर कृषि विभाग के अधिकारी क्लेम राशि को लेकर अड़ गए। उसके बाद जिला कलक्टर ने केन्द्र सरकार स्तर पर अपील भेजी। अपील पर केन्द्र सरकार ने सुनवाई करते हुए 30 अप्रेल को एक आदेश जारी कर उच्च स्तर पर क्लेम गणना करने की बात कही। लेकिन उसके बाद कोई आदेश जारी नहीं हुआ है।
 

1035 करोड़ क्लेम की सीमा
जिले में वर्ष 2017-18 में 4 लाख किसानों को खरीफ फसल का प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत क्लेम मिलना था, क्योंकि फसल बुवाई के बाद खराबा हो गया था। राजस्व विभाग की रिपोर्ट के बाद करीब 1200 करोड़ का फसल बीमा क्लेम किसानों के लिए प्रस्तावित किया गया, हालांकि कंपनी की ओर से अधिकतम 1050 करोड़ रुपए क्लेम निर्धारित कर रखा है। जिले में प्रति किसान करीब 19 हजार रुपए का क्लेम मिलना है।
 

फसल क्लेम अधिसूचना जारी
खरीफ फसल की बुवाई मानसून की शुरुआत होते ही शुरू हो गई। सरकार ने खरीफ फसल खराबा को लेकर एक दिन पहले अधिसूचना जारी की है। अब फसलों का बीमा क्लेम होना शुरू हो जाएगा, लेकिन पिछले साल के क्लेम के लिए किसान इंतजार कर रहे हैं।
---
फैक्ट फाइल-बुवाई क्षेत्र

- 10 लाख हैक्टेयर में बाजरा

- 3.50 लाख हैक्टेयर में ग्वार
- 2 लाख हैक्टेयर में मोठ-मूंग

---
- कोई स्पष्ट निर्णय नहीं हुआ है

केन्द्र सरकार ने उच्च स्तर पर गणना करवाने के लिए एक आदेश जारी किया था, लेकिन बीमा क्लेम को लेकर कोई स्पष्ट निर्णय जारी नहीं हुआ है। कृषि विभाग 100 प्रतिशत किसानों को क्लेम दिलाने के प्रयास में जुटा है। किसानों को जल्द ही बीमा क्लेम राशि मिलेगी।- किशोरलाल, उप निदेशक, कृषि विभाग, बाड़मेर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Nashik News: कंबल में लेटाकर प्रेग्‍नेंट महिला को पहुंचाया गया हॉस्पिटल, दिल दहला देने वाला वीडियो हुआ वायरलबीजेपी अध्यक्ष ने LG को लिखा लेटर, कहा - 'खराब STP से जहरीला हो रहा यमुना का पानी, हो रहा सप्लाई'सलमान रुश्दी पर हमला करने वाले की ईरान ने की तारीफ, कहा - 'हमला करने वाले को एक हजार बार सलाम'58% संक्रामक रोग जलवायु परिवर्तन से हुए बदतर: प्रोफेसर मोरा ने बताया, जलवायु परिवर्तन से है उनके घुटने के दर्द का संबंध14 अगस्त स्मृति दिवस: वो तारीख जब छलनी हुआ भारत मां का सीना, देश के हुए थे दो टुकड़ेआरएसएस नेता इंद्रेश कुमार का बड़ा बयान, बापू की छोटी सी भूल ने भारत के टुकड़े करा दिएHimachal Pradesh: जबरदस्ती धर्म परिवर्तन करवाने पर होगी 10 साल की जेल, लगेगा भारी जुर्मानाDGCA ने एयरपोर्ट पर पक्षियों के हमले को रोकने के लिए जारी किया दिशा-निर्देश
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.