scriptFather-in-law saved his life by giving kidney to son-in-law | ससुर ने दामाद को किडनी दे बचाई जान | Patrika News

ससुर ने दामाद को किडनी दे बचाई जान

बेटी के चेहरे पर
लौटी खुशी

बाड़मेर

Published: April 04, 2022 01:08:15 am

चौहटन बाड़मेर . बेटी के सुहाग की जीवन रक्षा के लिए ससुर ने अपने जंवाई को किडनी दान कर उसे नया जीवनदान किया। जंवाई को किडनी दान कर सुरक्षित ट्रांसप्लांट होने व स्वस्थ होने पर बेटी के चेहरे पर लौटी मुस्कान देख पिता की आंखे नम हो आईं। सेड़वा के शोभाला दर्शान निवासी ओमप्रकाश विश्नोई के किडनी में इन्फैक्शन होने पर महात्मा गांधी हॉस्पिटल जयपुर के चिकित्सकों ने उसके परिजनों को किसी अन्य की किडनी ट्रांसप्लांट करने की सलाह दी। ओमप्रकाश के ससुर रोहिला निवासी रामलाल ने आगे बढ़ कर अपनी किडनी देने के लिए पहल की। चिकित्सकीय जांच में भी रामलाल की किडनी मिलान होने पर अपनी बेटी पप्पूदेवी के सुहाग की जीवन रक्षा के लिए किडनी दान कर दी। सुरक्षित ट्रांसप्लांट के बाद बेटी पप्पू के चेहरे पर लौटी मुस्कान देखकर पिता को नई खुशी का एहसास हो रहा है।
ससुर ने दामाद को किडनी दे बचाई जान
ससुर ने दामाद को किडनी दे बचाई जान
इधर, आनुवांशिक गम्भीर बीमारी ने उजाड़ा परिवार

गडरारोड ञ्च पत्रिका. उपखण्ड क्षेत्र के गांव करीम का पार निवासी शंकरदीन पुत्र जुम्मा खान हृदय रोग से पीडि़त हैं। जिसके वर्ष 2018 में ऑपरेशन कर 15 लाख रुपए खर्च कर पेसमेकर लगाया। उसके बाद से कुछ वक्त तक तबीयत सही रही, लेकिन गत 2 वर्ष से वापस हृदय में लगे पेसमेकर की वजह से हृदय ठीक प्रकार से कार्य नहीं कर रहा है।
अहमदाबाद में पुन: जांच करवाने पर हार्ट ट्रांसप्लांट के ऑपरेशन की जरूरत बताई गई। जिसके लिए करीब 26 लाख रुपए खर्च बताया है। गरीब परिवार के लिए इलाज को जारी रखने के लिए इतनी बड़ी धनराशि जुटाना मुश्किल हो गया है। इसलिए शंकरदीन के परिवार ने आमजन व सरकार से मदद की अपील की है। करीम का पार निवासी शंकरदीन पुत्र जुम्मा खान के परिवार में हृदय रोग से पहले ही अपने दो भाई खो चुका हैं। अब शंकरदीन स्वयं इलाज के लिए अहमदाबाद में ङ्क्षजदगी व मौत के बीच जंग लड़ रहा है।
सरकार एवं आमजन से अपील
परिवार में लगातार जवान मौतों से सभी सदमे हैं। जिससे परिवार पर दुखों का पहाड़ पहले से टूट चुका था। जब इस आनुवांशिक बीमारी ने शंकरदीन के दो भाई व एक बहन को लील लिया, लेकिन दुखों ने फिर भी पीछा नहीं छोड़ा और अब इसी परिवार के युवा शंकरदीन अस्पताल में भर्ती हैं। जिसके इलाज के लिए 26 लाख की आवश्यकता हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी मस्जिद केसः सुप्रीम कोर्ट का सुझाव, मामला जिला जज के पास भेजा जाए, सभी पक्षों के हित सुरक्षित रखे जाएंशिक्षा मंत्री की बेटी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने दिए बर्खास्त करने के निर्देश, लौटाना होगा 41 महीने का वेतनHyderabad Encounter Case: सुप्रीम कोर्ट के जांच आयोग ने हैदराबाद एनकाउंटर को बताया फर्जी, पुलिसकर्मी दोषी करारकांग्रेस के चिंतन शिविर को प्रशांत किशोर ने बताया फेल, कहा- कुछ हासिल नहीं होगाउड़ान भरते ही बीच हवा में बंद हो गया Air India प्लेन का इंजन, पायलट को करानी पड़ी इमरजेंसी लैंडिंगकोहली नहीं सहवाग की नज़र में ये है असल कप्तान, बोले – जो टीम बनाता है वह होता है नंबर 1BJP राष्ट्रीय पदाधिकारी बैठक: PM नरेंद्र मोदी ने दिया 'जीत का मंत्र', जानें प्रधानमंत्री के संबोधन की बड़ी बातेंबिहार में बारिश व वज्रपात से 37 लोगों की मौत, जानिए बिहार में क्यों गिरती है इतनी आकाशीय बिजली?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.