पहले रेलवे, बाद में राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण की अनदेखी पड़ रही भारी?

- रेलवे परिसर में कार्य शुरू नहीं, 12 पिलर बनेंगे
- रेलवे बाहरी क्षेत्र में सभी पिलर तैयार

- डेढ़ माह के इंतजार बाद ड्रील मशीन को अन्यत्र भेजा

By: Moola Ram

Published: 18 Feb 2020, 02:03 PM IST

बालोतरा. पहले रेलवे व बाद में राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण की अनदेखी नगर में निर्माणाधीन ओवरब्रिज कार्य पर भारी पड़ रही है। रेलवे क्षेत्र में निर्माण को लेकर रेलवे के देरी से अनुमति देने व इसके बाद राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के रेलवे में सुपरविजन चार्ज राशि जमा नहीं करवाने पर अटका कार्य आज भी अटका हुआ है। इस पर ओवरब्रिज तैयार होने की देरी पर नगर व क्षेत्र के लोगों को परेशानी उठानी पड़ेगी।

नगर को दो भागों में बांटती रेललाइन व रेलगाडिय़ों के आवागमन के दौरान रेल फाटकों को बंद रहने से शहर व क्षेत्र के हजारों लोगों को हर दिन बड़ी परेशानी उठानी पड़ती है। त्योहार, विवाह सीजन में लगने वाला जाम आधे घंटे बाद भी नहीं खुलता है। पैदल गुजरना तक मुश्किल हो जाता है।

शहर, क्षेत्र के लोगों की बड़ी परेशानी व इनकी वर्षों की मांग पर राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने नगर में ओवरब्रिज निर्माण की स्वीकृति जारी की थी। इस पर जोर-शोर से इसका निर्माण कार्यजारी है। इस पर ओवरब्रिज अब आकार लेता नजर आ रहा है।

पहले रेलवे व बाद में प्राधिकरण ने लगाए ब्रेक-

रेलवे ने रेलवे क्षेत्र में निर्माण को लेकर कई महिने तक अनुमति नहीं दी। रेलवे की ओपन लाइन व कंस्टे्रक्शन विंग लंबे समय तक यह तय नहीं कर पाए कि आखिर में कौन अनुमति देगा। कई माह के इंतजार के बाद रेलवे ने कुछ समय पूर्व कार्य की अनुमति दी है।

रेलवे क्षेत्र में रेलवे इंजीनियर्स की देखरेख में कार्य किए जाने का प्रावधान है। इस कार्य के सुपरविजन को लेकर राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण को सुपरविजन राशि रेलवे को जमा करवानी होती है। अपुष्ट सूत्रों के अनुसार प्राधिकरण ने अभी तक यह राशि जमा नहीं करवाई है। इस पर आज भी कार्य अटका हुआ है।

बाहरी क्षेत्र में कार्य पूरा, भारी पड़ेगी अनदेखी-

नगर में ओवरब्रिज निर्माण की स्वीकृति व शुरुआत बाद से युद्ध स्तर पर कार्य जारी है। रेलवे क्षेत्र के बाहर बनाए जाने वाले सभी 48 पिलर का निर्माण कर दिया गया है। इन पर स्लैब डाल, आरसीसी सड़क बनाई जा रही है। रेलवे परिसर में 12 पिलर बनाए जाने हैं।

अनुमति के अभाव में कार्य अटका हुआ है। पिलर निर्माण के लिए जमीन में ड्रील करने को लेकर निर्माण एंजेसी ने करीब डेढ़ माह मेट मशीन खड़ी रखी। कार्य अनुमति नहीं मिलने पर अब इसे अन्यत्र रवाना किया। इस पर किराए के रूप में उसे लाखों रुपए का नुकसान उठाना पड़ा।

Moola Ram
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned