कोविड में आहत कुक कम हैल्पर को अब मिलेगी राहत

कोरोनाकाल से लेकर अब तक मानदेय भुगतान का निर्णय

- जिले की दस हजार कुक कम हैल्पर को मिलेगा फायदा

By: Dilip dave

Published: 06 Jan 2021, 08:30 AM IST

-बाड़मेर. कोरोनाकाल के चलते मानदेय को तरस रही कुक कम हैल्पर को अब सरकार ने राहत दी है। हाल ही में सरकार ने आदेश जारी कर मानदेय भुगतान के निर्देश दिए हैं। इस आदेश से जिले की करीब दस हजार कुक कम हैल्पर को मानदेय मिलने का रास्ता प्रशस्त हो गया है। कोविड-१९ के दौरान १४ से ३१ मार्च को छोड़ शेष दिवस का मानदेय दिया जाएगा।

इससे जिले की करीब दस हजार कुक कम हैल्पर लाभान्वित होंगी। सरकारी विद्यालयों में कक्षा पहली से आठवीं तक अध्ययनरत विद्यार्थियों को मिड डे मील परोसा जाता है। इसे बनाने के लिए प्रत्येक विद्यालय में कुक कम हैल्पर को मानदेय पर लगाया हुआ है। कोरोना को लेकर देश में लॉकडाउन लगा तो स्कू  ल बंद हो गए, जिसके बाद कुक कम हैल्पर का काम बंद हो गया और स्पष्ट दिशा निर्देश नहीं होने पर मानदेय भी रुक गया। मात्र १३२० रुपए के मासिक मानदेय पर कार्यरत कुक कम हैल्पर को मार्च २०२० से लेकर अब तक मानदेय नहीं दिया गया। इसके चलते इनके घर का चूल्हा-चौका चलना मुश्किल हो गया क्योंकि जो कुक कम हैल्पर लगी हुई है उनमें से अधिकांश जरूरतमंद व आर्थिक दृष्टि से कमजोर तबके की हैं।

एेसे में लम्बे समय से मानदेय की मांग की जा रही थी, लेकिन दिशा निर्देश के अभाव में मानदेय दिया जाए इसका फैसला नहीं हो पाया था। हाल ही में स्कू  ल शिक्षा विभाग भारत सरकार के मिड डे मील प्रभार की सहमति के अनुसार वित्तीय वर्ष २०१९-२० एवं २०२०-२१ में पूर्व की भांति प्रत्येक वित्तीय वर्ष में दस माह का भुगतान किया जाना है।

इस अवधि का नहीं होगा भुगतान- आदेश के अनुसार वित्तीय वर्ष २०१९-२० में १४ से ३१ मार्च विद्यालय बंद रहने के दौरान व ग्रीष्मावकाश की अवधि के दौरान का मानदेय नहीं दिया जाएगा। इस आदेश से यह स्पष्ट हो गया है कि अप्रेल से लेकर अब तक का मानदेय कुक कम हैल्पर को मिल जाएगा। मांग पत्र भिजवाने के निर्देश- आदेश के तहत अब जिले के सभी मुख्य ब्लॉक प्रारम्भिक शिक्षा अधिकारी से उक्त अवधि के दौरान मानदेय की राशि को लेकर मांग पत्र भिजवाने को कहा गया है।

इससे कि बजट की मांग कर आवंटन किया जा सके। सरकार का कदम सराहनीय- कुक कम हैल्पर पद पर जरूरतमंद महिलाएं ही कार्यरत है।

इनको पिछले आठ-दस माह से मानदेय नहीं मिलने पर गुजारा करना मुश्किल हो रहा था। अब सरकार ने मानदेय भुगतान के आदेश जारी किए हैं, जिससे इनको फायदा मिलेगा। सरकार का यह कदम सराहनीय है।- शेरसिंह भुरटिया, शिक्षक नेता

मांग पत्र भेजने के निर्देश- हाल ही में कुक कम हैल्पर के मानदेय को लेकर दिशा निर्देश मिले हैं, जिसमें मांग पत्र बना कर भेजने को कहा गया है। हमने सभी सीबीईओ को आदेश जारी कर मांग पत्र भेजने के निर्देश दिए हैं।- मूलाराम चौधरी, जिला शिक्षा अधिकारी ( मुख्यालय) प्रारम्भिक शिक्षा बाड़मेर

Dilip dave Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned