अब पनीर निर्माण से होगी पशुपालकों की आय दुगुनी

- पनीर निर्माण प्रशिक्षण संपन्न

बाड़मेर. पशुपालक दूध से पनीर निर्माण कर अपनी आय दुगुनी कर सकते हैं। दुग्ध के मूल्य संवर्धन से परिवार की सामाजिक एवं आर्थिक स्थिति सुदृढ़ होगी। यह बात सोसायटी टू अपलिफ्ट रूरल इकोनोमी श्योर बाड़मेर व केयर्न फ ाउण्डेशन की ओर से संचालित डेयरी विकास एवं पशुपालन परियोजना के तहत एवं कृषि विज्ञान केन्द्र गुड़ामालाणी की ओर से कांधी की ढ़ाणी में आयोजित पनीर निर्माण प्रशिक्षण में मुख्य अतिथि केयर्न फ ाउण्डेशन सीएसआर कार्यक्रम के मैनेजर भानुप्रताप सिंह ने कही।

उन्होंने पशपालकों को पशु चिकित्सा मोबाइल से लाभ सुनिश्चित कर पशुओं को स्वस्थ रखने का आह्वान किया। प्रशिक्षण में विशिष्ट अतिथि एवं कृषि विज्ञान केन्द्र गुड़ामालाणी प्रभारी डॉ. प्रदीप पगारिया ने कहा कि पशुपालक व्यापक स्तर पर पनीर निर्माण कर कम खर्च में अधिक आमदनी प्राप्त कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि पनीर के साथ फ ीका मावा, मिठाई, श्रीखंड, घी आदि उत्पादन कर जरूरतमंद उपभोक्ताओं तक पहुंच बनाकर सहकारिता से आगे बढ़े।

इस अवसर पर कृषि विज्ञान केन्द्र केशवना जालोर की गृह वैज्ञानिक नेहा गहलोत ने कहा दुग्ध से स्वच्छ एवं प्रमाणित पनीर उत्पादन से मांग में वृद्धि होती है।

पनीर निर्माण को दुग्ध उत्पादकों की आजीविका का आधार बनाने के लिए तथा पशुओं का दूध जनमानस के स्वास्थ्य का आधार है। प्रशिक्षण में कार्यक्रम प्रबंधक हनुमानराम चौधरी ने प्रशिक्षण के उद्देश्य के बारे में बताया। सहायक परियोजना समन्वयक मालाराम गोदारा ने आभार जताया।

Show More
Mahendra Trivedi Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned