गणतंत्र है हिन्दुस्तान, इसलिए छोड़ रहे पाकिस्तान,जानिए पूरी खबर

- 1 लाख से अधिक शरणार्थी रहते हैं बाड़मेर जिले में- 63 हजार के करीब हजार आए थे 1947 में - 1200 से अधिक आए हैं 2005 के बाद

By: Ratan Singh Dave

Updated: 26 Jan 2018, 09:23 AM IST

बाड़मेर.भारत-पाक के बीच 1971 के युद्ध के दौरान बीस साल का एक युवक जान बचाते-बचाते सात दिन बाद हिन्दुस्तान पहुंचा। उसे बचपन से ही पाकिस्तान में कहा जाता था कि दुश्मन है, बचकर रहना। बम गिरा देगा और फौजें आएंगी तो जिंदा नहीं छोड़ेंगी। जान बचाकर आया यह युवक आज सीमावर्ती चौहटन विधानसभा क्षेत्र से विधायक है। सन 1971 के बाद आए विस्थापितों में शामिल विधायक तरूण राय कागा कहते हैं कि दुनियां में कहीं गणतंत्र है तो 'वह मेरे भारत में है Ó।

पीहर छोड़ आई

मिल्खासिंह की कहानी याद है न, कुछ एेसा ही सात साल की बालिका मीरां के साथ हुआ 1971 में। युद्ध शुरू हुआ और परिवार के लोग भागने लगे। गांव में एक ही संदेश था कि पाकिस्तान की फौजें आ गई और अब भारत जाना होगा। सात साल की अबोध बालिका तीन दिन तक पैदल चली तब छोर से बाड़मेर के मुनाबाव पहुंची। यहां से महाबार आकर परिवार बस गया। आधा परिवार यहां रह गया और आधा पाकिस्तान। मीरां कहती है अब मुझे उस मुल्क कभी नहीं जाना। वहां पर कोई जीना है, रोज मारने को आते थे।
एक लाख लोग आ चुके हैं अब तक

पाकिस्तान से भारत आने वाले शरणार्थियों का सिलसिला 1947 से जारी है। एक लाख से ज्यादा लोग अब तक आ चुके हैं। 1947 में सर्वाधिक 63 हजार से अधिक शरणार्थी आए। यह सिलसिला 1971 के बाद थमा लेकिन 2005 में थार एक्सपे्रस शुरू होने के बाद फिर से शुरू हो गया। सिंध, मिठी, थारपारकर, खिपरो, छाछरो का इलाका जो बाड़मेर-जैसलमेर के ठीक सामने हैं यहां के लोगों की रिश्तेदारियां बाड़मेर और इस क्षेत्र से है। ये लोग पाकिस्तान में जुल्म सितम सह रहे हंै। रोजी-रोटी की कमी और जान-माल की सुरक्षा नहीं है। एेसे में ये थार एक्सप्रेस के जरिए यहां आ रहे हैं।
यहां मिल रही है शरण और अपनापन

बाड़मेर शहर का एक पूरा इलाका पाकिस्तान से जुड़े परिवारों का है। बेरियों का वास में रहने वाले पितांबर सुखानी और उनका पूरा परिवार सरकारी नौकरियों में हैं। वे कहते है कि यहां आकर कभी नहीं लगा कि कोई पराया है। शरणार्थी बस्ती में रह रहे घनश्याम माली उम्र के आखिरी पड़ाव पर हैं, वे कहते हंै कि सुख की जिंदगी जी ली, यहां आकर। अभी-अभी एक परिवार यहां आकर बसा है, उस परिवार के सदस्य को यहां आते ही रोजगार मिल गया। वह कहते हैं कि जैसा हिन्दुस्तान का सुना था, उससे कहीं बेहतर पाया है।
सुकून है यहां,और क्या चाहिए

बड़ा सकून है इस मुल्क में। कोई किसी को परेशान नहीं करता और भाईचारे से रहते हैं। पाकिस्तान तो इस वजह से छोड़ रहे हैं कि वहां कानून की नहीं चलती। जनता त्रस्त होकर आती है, बाकी मुल्क और जन्मभूमि कौन छोड़े?- तेजदान चारण, पाक विस्थापित

Ratan Singh Dave
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned